CRIME
File Photo

    पिंपरी : बड़े मामलों को सुलझाने में आगे रही पिंपरी चिंचवड़ पुलिस (Pimpri Chinchwad Police) सेंधमारी के बढ़ते मामलों को सुलझाने में नाकाम साबित होती नजर आ रही है। पिछले साल पिंपरी चिंचवड़ के 15 पुलिस थानों में 353 सेंधमारी हुई थी। संबंधित थानों (Police Stations) में अपराध भी दर्ज किए गए। हालांकि अभी तक 59 फीसदी अपराधों (Crimes) का पता नहीं चल सका है। पुलिस (Police) ने दर्ज (Registered) किए गए 353 मामलों में से केवल 147 आरोपियों (Accused)को ही गिरफ्तार किया है। सेंधमारी के मामले सुलझाने का यह अनुपात 41 प्रतिशत है।

    जनवरी से दिसंबर 2021 के बीच शहर के 15 थानों में चोरी के 353 मामले दर्ज किए गए। इनमें से 40 चोरी दिन में हुई थी जबकि रात में 315 चोरी हो चुकी है। पुलिस दिन में चोरी के 15 मामलों की जांचकर उन्हें सुलझाने में सफल रही, इसका अनुपात 38 प्रतिशत है। 62 प्रतिशत मामलों का पता नहीं चल पाया है जिसके चलते ये मामले अभी तक सुलझे नहीं है। रात में हुई 315 चोरी में से 132 चोरी के मामलों को सुलझाया गया है जिसका अनुपात 41 प्रतिशत है।

    पिछले साल जनवरी से दिसंबर 2020 के बीच 271 सेंधमारी के मामले सामने आए थे। इनमें से 119 अपराध उजागर हुए। दिन में 36 और रात में 235 चोरी हुई। पिछले साल की तुलना में इस साल अपराध दर में इजाफा हुआ है। तस्वीर यह है कि लॉकडाउन में ढील के बाद चोरी के ये मामले बढ़े हैं। पुलिस ने कई चोरों को भी गिरफ्तार किया है जो घरों में सेंध लगाते हैं और समय-समय पर चोरी करते हैं। सबसे ज्यादा सेंधमारी के मामले जनवरी, अगस्त और नवंबर में सामने आए।