Villagers wandering for severe water scarcity in Talvel
File Photo

    ठाणे : दिवा (Diva) में पानी की पूर्ति (Water Supply) करने वाली  एमआयडीसी (MIDC) के पाइपलाइन में बार-बार रिसाव (Leakage) होने और खराबी आने के कारण आए दिनों पानी आपूर्ति पर असर पड़ रहा है। आलम यह है कि यहां के रहिवासियों को प्रतिदिन पानी की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में यहां के लोगों को बोतल बंद पानी और निजी टैंकरों (Private Tankers) के भरोसे रहना पड़ रहा है।

    ऐसे में बार-बार जारी पानी आपूर्ति के नियमततर को लेकर भाजपा (BJP) के ठाणे शहर उपाध्यक्ष (Thane City Vice-President) नीलेश पाटिल (Nilesh Patil) ने दिवा वासियों को महानगरपालिका द्वारा खुद के खर्चे से पानी आपूर्ति की मांग की हैं। पाटिल का कहना है कि दिवा वासी भी महानगरपालिका क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले अन्य नागरिकों की तरह ही संपत्ति कर और पानी के बिलों का भुगतान करते है, ऐसे में पानी आम व्यक्ति का मुलभुत अधिकार है और महानगरपालिका प्रशासन को मुफ्त में टैंकर उपलब्ध कराना चाहिए। 

    एमआयडीसी की पाइपलाइन में खराबी 

    इस संदर्भ में उन्होंने महानगरपालिका कमिश्नर डॉ. विपिन शर्मा को पत्र भी दिया है। जिसमें उन्होंने कहा है कि पिछले एक महीने से दिवा कर पानी की भीषण कमी का सामना कर रहे है।  जिसका मुख्य कारण दिवा में पानी की आपूर्ति करने वाली एमआयडीसी की पाइपलाइन में बार-बार खराबी आने के कारण और अचानक पानी की कटौती होने के चलते इस प्रकार यहां के लोगों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है।

    टैंकर के जरिए पानी की आपूर्ति करें

    अतः दिवा शहर के लिए पर्यायी व्यवस्था के रूप में जब पानी की आपूर्ति बंद हो जाती है तो महानगरपालिका प्रशासन खुद के टैंकर के जरिए पानी की आपूर्ति करें। साथ ही पाटिल ने पत्र में यह भी कहा है कि पानी की कमी से जूझ रहे दिवा करों को यदि महानगरपालिका पानी सही समय पर उपलब्ध कराती है तो पानी के बिलों को भरने वालों की संख्या भी बढ़ेगी और नागरिकों की समस्याओं का भी निपटारा होगा।