नदी में बहा व्यक्ति, खोज मुहिम आरंभ, 20 घंटो से नदी में लापता

    आसेगांव. 3 सितंबर को हुई धुआंधार बारिश के कारण परिसर के नदियों के जल का स्तर बढ़ गया था. जिस वजह से भोपल पेंड नामक नदी जो ग्राम रूई से बहती है़  उक्त नदी का भी जल पुलिया के ऊपरी हिस्से से बहने लगा. जल बहाव का अनुमान ना रहने से ग्राम रूई निवासी 40 वर्षीय एक व्यक्ति अपने घर से निकलकर गांव में किराणा सामग्री खरीदने के लिए नदी को पार कर आ रहा था. नदी की पुलिया कम हाइड की रहने से उक्त व्यक्ति को कितना पानी का बहाव है़.

    इस का अनुमान ना रहने से नदी को पार करते समय उक्त व्यक्ति नदी के तेज बहाव में बह गया. यह घटना 3 सितंबर की रात्रि आठ बजे के दौरान ग्राम रूई गोस्ता में घटी. जिस के बाद 4 सितंबर को इस घटना की जानकारी पुलिस को दी गई.

    जानकारी प्राप्त होते ही पीएसआई रवि खंडारे पुलिस दल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे. और गांव के ही गोता खोरों की सहायता से उक्त व्यक्ति को ढूंढने के लिए खोज मुहिम आरंभ की परंतु 20 घंटो के बावजूद भी नदी में बहने वाले व्यक्ति का कोई सुराग तक नहीं मिल पाया है. 

    ग्राम रूई निवासी 40 वर्षीय वाघजी ढंगारे नामक व्यक्ति जो रूई की नदी के दूसरे हिस्से में वाघामाय मंदिर क्षेत्र में अपने परिवार के साथ निवास करता है. बीते रात्रि 8 बजे के दौरान गांव में किराणा की सामग्री खरीदने हेतु आ रहा था. बहती नदियां को पार करते समय पुलिया के पानी का अनुमान ना रहने से नदी को पार कर रहा था.

    पुलिया के आधे हिस्से में आने के बाद बहते जल का तेज बहाव रहने से उक्त व्यक्ति नदी के पानी में बह गया. घंटो तक घर ना लौट पाने और मोबाइल स्वीच ऑफ होने से घरवालों ने उक्त व्यक्ति की तलाश गांव में की लेकिन कोई जानकारी प्राप्त ना होने से नदी में उक्त व्यक्ति बहने की आशंका अधिक बन गई जिस के बाद 4 सितंबर की सुबह 8 बजे से ही संपूर्ण नदी परिसर में गांव के ही गोता खोरों की सहायता से व्यक्ति की तलाश मुहिम जारी की गई.

    लेकिन खबर लिखे जाने तक नदी में बहकर गए व्यक्ति का कोई सुराग नहीं लग पाया है. गाववासियों के अनुसार यह नदी जंगल के रास्ते से होते हुए यवतमाल के चिखली डैम में जाती है. तेज बहाव में कहीं उक्त व्यक्ति डैम तक तो नहीं चला गया. ऐसी चर्चा भी शुरू थी. फिलहाल इस संबंध में पुलिस थाने में शिकायत दर्ज की गई है.