पैनगंगा नदी पात्र में रेत का धडल्ले से उत्खनन; रेत तस्करों को अभय दे रहे राजस्व अधिकारीयों पर कडी कारवाई करने की मांग

    • प्रहार का राजस्व मंत्री को ज्ञापन
    • आंदोलन की चेतावणी

    उमरखेड. तहसील से बहनेवाली पैनगंगा नदी के रेतीघाटों में शामिल उंचवडद और हातला इन दो रेतीघाटों की इस वर्ष निलामी हुई, लेकिन इसकी बजाय जो घाट निलाम नही हुए, वहां पर भी खुलेआम और धडल्ले से रेत का अवैध उत्खनन कर आसपास के गांवों में रेत का जखिरा जमा किया जा रहा है, लेकिन रेत तस्करों पर कारवाई की बजाय स्थानिय राजस्व अधिकारी और कर्मचारी उन्हे अभय देकर सरकारी खजाने में राजस्व का चुना लगा रहे है.

    रेतमाफियाओं द्वारा रेत के रुप में हो रही लुट को रोककर उन्हे अभय देनेवाले राजस्व अधिकारीयों के खिलाफ कडी कारवाई करें, एैसी मांग प्रहार जनशक्ती पार्टी ने राज्य के राजस्व मंत्री से की हे. इस आशय का ज्ञापन उपविभागिय अधिकारी के जरीए प्रहार ने भेजा है.उमरखेड तहसील के केवल हातला और उंचवडद इन दो घाटों की निलामी हुई थी.

    इसके बावजुद तहसील सीमा में आनेवाले कोपरा,बोरी,धारचातारी, मानकेश्वर,शिंदगी,गांजेगाव,सावलेश्वर,साखरा,खरुस,चालगणी यह रेतघाट निलामी न होने पर भी बिते 5 माह से खुलेआम यहां से जेसीबी और पोकलैंड मशिनों के जरीए उत्खनन कर ट्रैक्टर तथा टिप्परों सें गांव गांव में खुलेआम अवैध रेत बेंची जा रही है.

    इन रेती तस्करों पर कारवाई करने का कदम स्थानिय उपविभागिय अधिकारी और तहसीलदार नही ले रहे है, जिससे स्थानिय कोतवाल,पटवारी,मंडल अधिकारी अपना हिस्सा लेकर रेततस्करों कों छुट दे रहे है, जिससे हर दिन लाखों रुपए किंमत के गौण खनीज को लुटा जा रहा है,साथ ही अवैध रेत उत्खनन के बाद इसे आसपास के खेतों, गांवों में जमा किया गया है.एैसी जानकारी राजस्व मंत्री को भेजे ज्ञापन में दी गयी है.

    प्रहार जनशक्ती द्वारा दी गयी जानकारी के मुताबिक इस बारे में कोपरा, बोरी, धार चातारी में किए गए रेत जखीरे की जेसीबी के जरीए अन्य ठिकाने पर पहूंचाने की शिकायत सोशल मिडीया के जरीए 4 दिनों पहले स्थानिय तहसीलदार, एसडीओ और जिलाधिकारी स्तर पर की गयी थी, लेकिन इस ओर नजरअंदाजी बरती गयी, जिससे एक तरह से रेतस्करों को रेतजखीरा एक ठिकाने से दुसरे ठिकाने पर पहूंचाने के लिए एक तरह से छूट दी गयी है.एैसा आरोप प्रहार जनशक्ती पार्टी ने लगाया है.

    प्रहार ने की उच्चस्तरीय जांच की मांग

    रेती तस्करी की इस करतुत में कुछ राजस्व कर्मचारी और अधिकारी भी हिस्सेदार होने से कोई राजस्व अधिकारी निलामी न हुए रेतीघाटों में जारी अवैध रेत उत्खनन को रोकने नही पहूंचा है, एैसी चर्चा जारी है, एैसे में गौण खनिजी की चोरी कर सरकारी खजाने को नुकसान पहूंचानेवाले रेततस्करों और उन्हे अभय देनेवाले संबंधित अधिकारी, कर्मचारीयों की उच्चस्तरीय जांच कर कडी कारवाई करें.

    एैसी मांग प्रहार जनशक्ती पार्टी के शहर अध्यक्ष राहुल मोहितवार समेत प्रहार के अंकुश पानपट्टे,प्रविण इंगले,बालाजी भोयर,चंद्रकांत गायकवाड,संदिप घुले , अविनाश दुधे , सुनिल खोलगडे,श्याम चेके,मो.फयाज आदी ने राज्य के राजस्वमंत्री बालासाहेब थोरात को भेजे गए ज्ञापन के जरीए की है, सरकार के गौण खनीज की लुट मचा रहे लोगों के खिलाफ कारवाई न होने पर प्रहार द्वारा इसके खिलाफ तीव्र आंदोलन छेडने की चेतावणी प्रशासन और सरकार को ज्ञापन के जरीए दी गयी है.