Punjab Police
ANI Photo

अमृतसर. वारिस पंजाब डे प्रमुख अमृतपाल सिंह (Waris Punjab De chief Amritpal Singh) के चार साथियों- भूपिंदर सिंह, गुरप्रीत सिंह, सुखमनजीत सिंह और हरप्रीत सिंह को सोमवार को अमृतसर के बाबा बकाला कोर्ट (Baba Bakala Court) में पेश किया गया। जहां कोर्ट ने सभी को 23 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज दिया। यह जानकारी आरोपियों के वकील एच शेखों ने दी।

आरोपियों के वकील एच शेखोन ने कहा, “अमृतपाल सिंह के सहयोगी भूपिंदर सिंह, गुरप्रीत सिंह, सुखमनजीत सिंह और हरप्रीत सिंह को 23 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।”

शेखोन ने कहा, “खिलचियां पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 279 (तेजी से या लापरवाही से गाड़ी चलाने से मानव जीवन को खतरे में डालना), 506, 636 और 186 के तहत मामला दर्ज किया गया है। शेखोन ने कहा कि इनके पास से कुछ हथियार बरामद होने हैं।”

‘वारिस पंजाब दे’ से जुड़े पांच लोगों के खिलाफ सख्त राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) लगाया है। पंजाब के  आईजीपी सुखचैन सिंह गिल ने कहा कि गिरफ्तार किए गए पांच लोगों (डिब्रूगढ़ भेजे जा रहे) के खिलाफ एनएसए (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) लगाया गया है।

पंजाब आईजीपी ने कहा कि पांच आदमियों में से चार को पहले ही असम के डिब्रूगढ़ भेज दिया गया है और पांचवें, अमृतपाल सिंह के चाचा हरजीत सिंह को अब असम ले जाया जा रहा है। 

बता दें कि पुलिस ने गिरफ्तार किए गए आरोपियों दलजीत कलसी, बसंत सिंह, गुरमीत सिंह भुखनवाला और भगवंत सिंह को डिब्रूगढ़ भेजा गया है।

गिल ने कहा कि राज्य में शांति है और हालत काबू में है। उन्होंने कहा, ‘वारिस पंजाब दे’ के कुछ तत्वों के खिलाफ विशेष कार्रवाई की गई, जिनके खिलाफ छह आपराधिक मामले दर्ज हैं। उन्होंने कहा कि कट्टरपंथी उपदेशक अमृतपाल सिंह फरार है और उसे पकड़ने के प्रयास जारी हैं।

गिल ने कहा कि अब तक 114 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें से 78 को पहले दिन, 34 को दूसरे दिन और बीती रात दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।  दस हथियार बरामद किए गए हैं।