दूसरे ‘सुपर ओवर’ से क्यों नाराज थे क्रिस गेल ? था भी वाजिब

– विनय कुमार

रविवार, 18 अक्टूबर की रात रोमांच बरी रात थी. मुंबई इंडियंस (MI) के खिलाफ किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) ने ऐतिहासिक मुक़ाबले में जीत हासिल जी. मैच का फैसला 2 सुपर ओवर के बाद हुआ. किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) को 2 बार सुपर ओवर (SUPER OVER T20) का सामना करना पड़ा जिसके चलते मैच का रोमांच काफी बढ़ गया. पहले सुपर ओवर में जब मैच टाई हुआ तो दूसरे सुपर ओवर में किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) की तरफ से बल्लेबाजी करने ‘यूनिवर्स बॉस’ क्रिस गेल आए.

क्रिष गेल ने आते ही विस्फोटक छका ठोका. इस छक्के ने उनकी टीम का हौसले बुलंद कर दिया. फिसले का फासला बहुत छोटा था और बेहद संवेदनशील पड़ाव पर, कोई भी जीत और हार सकता था. लेकिन जिस तरह से एक के बाद एक किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) की टीम को सुपर ओवर में जाना पड़ा उसको लेकर क्रिस गेल खुश नहीं थे.

पहले सुपर ओवर (SUPER OVER) में मोहम्मद शमी की शानदार गेंदबाजी की वजह से मुंबई की टीम सिर्फ 5 रन बना पाई. उनकी गेंदबाजी के चलते ही मैच ताई हुआ और फैसले के लिए एक और सुपर ओवर खेला गया. मैच के बाद मयंक अग्रवाल से बात करते हुए क्रिस गेल से पूछा गया कि जब आप बल्लेबाजी करने के लिए गए तो क्या आप नर्वस थे ? तो क्रिस गेल ने हंसते हुए कहा कि, “नहीं मैं नर्वस नहीं था. मैं थोड़ा नाराज और गुस्से में जरूर था, कि हमने फिर से अपने आपको इस स्थिति में डाल लिया. लेकिन ये क्रिकेट का खेल है और इस तरह की चीजें होती हैं.”

क्रिस गेल ने कहा कि, “मेरे लिए शमी ‘मैन ऑफ द मैच’ हैं. रोहित शर्मा और क्विंटन डी कॉक के सामने 6 रन को बचा पाना एक ओवर में बहुत ही मुश्किल था, लेकिन शमी जबरदस्त थे, उन्होंने बेहतरीन काम किया. मैंने नेट में उनका सामना किया है और मुझे पता था कि वह ये यॉर्कर्स डाल सकते हैं. आज वो मैदान में आए और उन्होंने हमारे लिए ये करके दिखाया.”

इस बेहद रोमांचक मैच में लगातार एक के बाद यॉर्कर गेंदों के बारे में किंग्स इलेवन पंजाब के घातक गेंदबाद मोहम्मद शमी ने कहा कि, “यह काफी मुश्किल था, जब आपको 15-117 रन बचाने को मिलते हैं सुपर ओवर में तो उस समय भी यह काफी मुश्किल होता है. लेकिन आप का खुद पर भरोसा होता है कि आप ये कर सकते हैं. लेकिन जब गलती की इतनी कम गुंजाइश होती है तो आप उस बात पर ध्यान देते हैं कि आप सबसे अच्छा क्या कर सकते है. मैं खुद पर बहुत भरोसा करता हूं. आखिरी गेंद मेरे लिए जबरदस्त थी, अगली गेंद और भी अच्छी होगी, मैंने यही बात छह बार दोहराई.”

निर्णायक ओवर यानी, दूसरे सुपर ओवर में किंग्स इलेवन के एक और धाकड़ गेंदबाज़ क्रिस जॉर्डन ने गेंदबाजी की और उन्होंने मुंबई को 11 रन ही बनाने दिए. क्रिस जॉर्डन ने कहा कि, “जिस तरह से हमने सुपर ओवर (SUPER OVER) में गेंदबाजी की, वह टीम के चरित्र को दर्शाता है. शमी ने सुपर ओवर किया वह शानदार प्रयास था. हमारी टीम में जबरदस्त ऊर्जा है, हमारी टीम कुछ बेहतरीन खिलाड़ी हैं. हमारे पास मैक्सवेल हैं. आज का खेल पूरी टीम का अच्छा प्रयास था.”