film-science-and-technology-have-ability-to-fire-people-imagination-shekhar-kapur

निर्देशक कपूर (Shekhar Kapur) इंटरनेशनल साइंस फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया (ISFFI) के ऑनलाइन समापन समारोह में संबोधित कर रहे थे।

मुंबई. फिल्मकार शेखर कपूर (Shekhar Kapur) ने शनिवार को कहा कि सिनेमा में विज्ञान सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में लोगों को उत्सुक बनाने की शक्ति है । स्टीवन स्पीलबर्ग की फिल्म ‘जुरासिक पार्क’ का उदाहरण देते हुए कपूर ने कहा कि फिल्मों में दर्शकों के बीच किसी भी वैज्ञानिक विषय के बारे में जिज्ञासा पैदा करने की क्षमता होती है ।

उन्होंने कहा,‘मुझे याद है स्टीवन स्पीलबर्ग की ‘जुरासिक पार्क’ देखकर सभी लोगों को डायनासोर में रुचि हो गई। डायनासोर में जो रुचि बढ़ी कि कभी खत्म नहीं हुई। इसलिए कहते हैं ना कि फिल्मों में लोगों की कल्पनाओं को प्रज्वल्लित करने की क्षमता होती है।”

दिग्गज फिल्म निर्देशक कपूर (Shekhar Kapur) इंटरनेशनल साइंस फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया (ISFFI) के ऑनलाइन समापन समारोह में संबोधित कर रहे थे। ‘मासूम’, ‘मिस्टर इंडिया’,‘‘बैंडिट क्वीन’ और ‘एलिजाबेथ’जैसी समीक्षकों द्वारा प्रशंसित फिल्में बनाने के लिए मशहूर फिल्मकार ने कहा कि वैज्ञानिक विषयों पर बनने वाली फिल्में बहुत कल्पनाशील होती है।

समापन समारोह के दौरान मेगास्टार अमिताभ बच्चन का एक विशेष संदेश भी प्रसारित किया गया। वयोवृद्ध अभिनेता ने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी सामाजिक समस्याओं का समाधान खोजने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं । महोत्सव में 60 देशों से 634 विज्ञान पर आधारित फिल्में, लघु फिल्में और वृत्तचित्र प्रविष्टियां प्राप्त हुईं जिनमें से कुल 230 का चयन किया गया।