Ram Mandir Inaugration, Baba Bhojpali, Madhya Pradesh, Bhopal
बाबा भोजपाली

Loading

भोपाल: देशभर में अयोध्या के भव्य नवनिर्मित राममंदिर और भगवान राम लला की प्राण प्रतिष्ठा (Ram Mandir Inaugration) के दिन को लेकर रामामय माहौल बना हुआ है। वहीं पर एक से बढ़कर एक किस्से और तस्वीरें, वीडियो सामने आ रहे हैं। इनमें मध्यप्रदेश के ऐसे ही एक रामभक्त हैं, जिन्होंने राममंदिर निर्माण को लेकर 31 साल पहले संकल्प लिया था। उनका संकल्प था कि वे राम मंदिर बनने तक शादी नहीं करेंगे। इस रामभक्त का नाम भोजपाली बाबा (Baba Bhojpali) है, जो मूल रूप से भोपाल के रहने वाले हैं। इनका असली नाम रविंद्र गुप्ता है। 

राम लला के लिए बन गए संन्यासी
भोजपाली बाबा को भी राममंदिर के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने का आमंत्रण मिला है और वे मंदिर के बन जाने पर बेहद खुश हैं। बाबा भोजपाली बताते हैं कि वे पहले अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के संयोजक थे। उस दौरान 6 दिसंबर 1992 की बात रही होगी, जब वे अयोध्या गए थे। वहां  पर मंदिर का कच्चा निर्माण हो रहा था।

मंदिर को लेकर बाबा ने प्रण लिया कि जब तक भगवान रामलला का भव्य राममंदिर नहीं बन जाता वे विवाह के बंधन में नहीं बंधेगें। संकल्प के लेने से परिवार के लोग भी काफी परेशान हो गए थे। शादी के लिए रिश्ते आए, लेकिन वे टालते रहे। पारिवारिक बंधनों को तोड़कर बाबा ने 2004 में परिवार छोड़ दिया और संन्यासी बन गए।

बैतूल में रहते हैं बाबा भोजपाली 
आपको बताते चलें कि बाबा का जन्म 24 जनवरी 1972 को हुआ था । वे मूलत: भोपाल के लखेरापुरा इलाके के रहने वाले हैं। उनके परिवार में पिता भगवती प्रसाद गुप्ता संघ से जुड़े थे। उनमें RSS के संस्कार बचपन से रहे। बाबा भोजपाली संन्यासी भले हैं, लेकिन वे शिक्षित भी हैं। उन्होने भोपाल में एलएलबी की डिग्री ली है और वकालत भी कर चुके हैं।

फिलहाल वे इस समय बैतूल के मिलानपुर गांव के एक मंदिर में रहते हैं और भगवान राम की सेवा करते हैं। मंदिर बन जाने पर बाबा ने एक सवाल का जवाब देते हुए कहा कि मंदिर बनने पर खुश हूं। सनातन का समय आ गया है, आगे इसका प्रचार-प्रसार करूंगा और संन्यासी बनकर भगवान राम की सेवा करता रहूंगा।