NCP Chief Sharad Pawar rejected the demand for resignation of Nawab Malik, said – Arrest is politically motivated, being a Muslim, the name is being linked to Dawood
File Photo

    मुंबई: महाराष्ट्र में जिस तरह महाविकास अघाड़ी की सरकार गिरी और नई शिंदे की सरकार बनी है, उसके बाद से ही विपक्ष के नेता लगातार नई सरकार के खिलाफ निशाना साध रहें हैं। इस बार राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने निशाना साधते हुए कहा है कि, महाराष्ट्र में मध्यावधि चुनाव होने की प्रबल संभावना है। उन्होंने इसके पीछे का लाजिक बताते हुए कहा कि, शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार अगले 6 महीनों में गिरने की पूरी संभावना है। शरद पवार ने अपने कार्यकर्ताओं और विधायकों को संबोधित करते हुए कहा था कि, आप सब जमीनी स्तर पर कार्य करें, अपने जनसंपर्क को और तेजी से बढाएं क्योंकि, 6 महीने बाद मध्यावधि चुनाव होना तय है।

    आपको बता दें कि, इस बैठक में शरद पवार ने अपने पार्टी के विधायकों को अपने क्षेत्रों में अधिक समय बिताने का संदेश दिया है। उन्होंने आगे कहा कि, शिंदे गुट-भाजपा सरकार की विफलता के कारण कई बागी विधायक अपनी मूल पार्टी शिवसेना में उद्धव ठाकरे के पास लौट आएंगे। ऐसे में हमारे हाथ में सिर्फ 6 महीने बचे हैं। आप सब जमीनी स्तर पर तन-मन-धन से जनता का काम करो, जिससे जनता हमारे सभी उम्मीदवार को भारी मतों से चुन कर विजयी बनाएं।

    आपको बता दें कि, शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस के गठबंधन वाली महा विकास अघाड़ी सरकार के पतन के बाद एकनाथ शिंदे ने बीजेपी के साथ मिलकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली और बीजेपी वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस ने उनके डिप्टी सीएम बने हैं। ऐसे में आज फ्लोर टेस्ट है। फ्लोर टेस्ट पास करने के लिए में सदन में बहुमत सिद्ध करने का आंकड़ा 144 विधायक है। ऐसे में उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का दावा है कि, विश्वास मत में हम 166 वोटों के साथ अपना बहुमत साबित करेंगे। आपको बता दें कि, वर्तमान में 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा में बीजेपी के 106 विधायक, शिंदे शिवसेना बालासाहब के 39 बागी, कुछ निर्दलीय विधायकों के साथ होने का दावा कर रहे हैं। ऐसे में शरद पवार का दावा कितना सच होगा यह तो आने वाला समय ही बताएगा।