File Photo
File Photo

    -सीमा कुमारी

    सनातन धर्म के पंचांग के अनुसार हर साल आषाढ़ माह की शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को वैवस्वत सूर्यदेव की पूजा होती है। यह दिन भगवान के पुत्र वैवस्वत मनु को समर्पित है। मान्यता है कि सूर्य सप्तमी के दिन वैवस्वत मनु की पूजा और व्रत करने से श्रद्धालु को आरोग्य, धन में वृद्धि और शत्रुओं पर विजय का का वरदान मिलता है। इस साल, 2022 में यह पावन दिन 6 जुलाई, यानी बुधवार को है।

    इस दिन भगवान सूर्यदेव के ‘वरूण रूप’ की पूजा करने की भी परंपरा है। आइए जानें इस दिन kin मंत्रों का जाप किया जाए –

    इन मंत्रों का जाप से भगवान सूर्य होंगे प्रसन्न

    • ॐ हृां मित्राय नम:
    • ॐ हृीं रवये नम:
    • ॐ हूं सूर्याय नम:
    • ॐ ह्रां भानवे नम:
    • ॐ हृों खगाय नम:
    • ॐ हृ: पूषणे नम:
    • ॐ ह्रां हिरण्यगर्भाय नमः
    • ॐ मरीचये नमः
    • ॐ आदित्याय नमः
    • ॐ सवित्रे नमः
    • ॐ अर्काय नमः
    • ॐ भास्कराय नमः

    आध्यात्मिक और धार्मिक मान्यताएं हैं कि भगवान सूर्यदेव की पूजा-आराधना और जल चढ़ाने से आत्मविश्वास बढ़ता है और कष्ट का निवारण होता है।