विराट कोहली मामले में इस पाकिस्तानी दिग्गज ने सौरव गांगुली को लिया आड़े हाथों, बीसीसीआई अध्यक्ष को दिखाया आईना

    -विनय कुमार

    भारतीय क्रिकेट टीम (Team India) साउथ अफ्रीका दौरे के लिए कूच कर चुकी है। अफ्रीका की धरती पर भारत और साउथ अफ्रीका के बीच 3-3 मैचों की टेस्ट और वनडे सीरीज (India vs South Africa Series 2021-22) खेली जाएगी। साउथ अफ्रीका रवाना होने से पहले टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli Captain Test Team) ने कल, यानी बीते बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान वनडे टीम की कप्तानी जाने के बाद पहली बार बयान दिया। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि भारत की T20 टीम का कप्तान  प्रारूप में लगातार भारतीय टीम का कप्तान बने रहने के लिए उन्हें किसी ने नहीं कहा था, जैसा कि खबरों में बताया जा रहा है।

    गौरतलब है कि BCCI के अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly BCCI President) ने कहा था कि उन्होंने विराट कोहली को T20 टीम इंडिया का कप्तान बने रहने के लिए कहा था। और ये भी कहा था कि उन्होंने अपने ऊपर बढ़ते वर्क लोड के मद्देनजर कप्तानी छोड़ने का निर्णय किया। अब जब खुद विराट कोहली ,(Virat Kohli Captain Indian Cricket Team) ने सौरव गांगुली के बयान को नकार दिया है। ज़ाहिर है ऐसे में दोनों के बीच विवाद बढ़ने की स्थिति में नजर आ रहा है।

    इंडियन क्रिकेट में मच उठे इस बवाल के बीच पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सलमान बट (Salman Butt former Captain Pakistan) ने भी अपनी राय सामने रखी है। पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सलमान बट ने अपने ऑफिशल यूट्यूब चैनल पर कहा है कि इंडियन क्रिकेट की भलाई इसी में है कि इस मामले में BCCI के अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly BCCI President) को सामने आकर इस विवाद को खत्म करना चाहिए।

    उन्होंने कहा कि विराट कोहली (Virat Kohli Captain Indian Cricket Team) ने सबके सामने आकर अपना पक्ष सामने रखा है, ये आसान और कोई छोटी बात नहीं है। एक तरफ गांगुली ,(Sourav Ganguly) कहते हैं कि उन्होंने विराट को T20 टीम इंडिया की कप्तानी छोड़ने से मना किया था, वहीं दूसरी तरफ विराट का कहना है कि BCCI की तरफ से किसी भी ऑफिशलने इस मामले पर उनसे कभी भी कोई भी बात नहीं की थी। इस गंभीर मामले में दोनों प्लेयर्स के बयान अलग हैं। इस मसले को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।

    सलमान बट ने आगे कहा कि यह मामला सिर्फ टीम की कप्तानी का नहीं है। माना कि रोहित शर्मा (Rohit Sharma Captain) का बतौर कप्तान बेहतर  रिकॉर्ड है, लेकिन एक सीनियर प्लेयर से अचानक कप्तानी छीनकर जिस तरह से दूसरे खिलाड़ी को दी गई, वह सही नहीं था। गांगुली को चाहिए वे इस मसले का हल बातचीत के जरिए निकालें। वरना उनके और कप्तान कोहली के बीच भरोसे का रिश्ता टूट सकता है।