France
AP/PTI Photo

    दोहा. गत चैम्पियन फ्रांस ने किलियान एमबापे के दो गोल और ओलिवर गिरोड के एक गोल की मदद से रविवार को यहां फीफा विश्व कप के राउंड 16 मैच में पोलैंड को 3-1 से हराकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।   गिरोड ने 44वें और एमबापे ने 74वें और 90+1वें मिनट में गोल किये। पोलैंड के लिये सांत्वना गोल उसके करिश्माई स्ट्राइकर रॉबर्ट लेवांडोव्स्की (90+9वें मिनट) ने पेनल्टी पर किया।

    पहले हाफ तुरंत पहले स्टार फॉरवर्ड ओलिवर गिरोड 44वें मिनट में गोल कर फ्रांस के लिये सबसे ज्यादा गोल करने वाले फुटबॉलर बन गये और उन्होंने थिएरी ऑनरी (123 मैच में 51 गोल) को पीछे छोड़ दिया। 36 वर्षीय गिरोड के 117 मैचों में 52 गोल हो गये हैं। ग्रुप डी के शुरूआती मैच में आस्ट्रेलिया के खिलाफ 4-1 की जीत में वह ऑनरी की बराबरी पर आये थे।

    एमबापे ने बॉक्स के अंदर गिरोड को गेंद दी जिन्होंने बायें पैर से शानदार शॉट लगाकर रिकॉर्ड गोल दागा और फ्रांस को 1-0 से आगे कर दिया। कोच डिडिएर डेसचैंप्स इसका जश्न मनाते दिखे। मैच के दौरान पोलैंड ने कई मौके बनाये लेकिन टीम दुर्भाग्यशाली रहे कि ये फलदायी नहीं रहे।

    ग्रुप डी में शीर्ष पर रही फ्रांस ने मैच के 15 मिनट में दबदबा बनाये रखा जिसमें गोल करने के तीन अच्छे प्रयास किये जिसमें से एक में ऑरेलियन चोउमेनी ने 13वें मिनट में गोल की ओर शॉट लगाया था, पर इसका पोलैंड के गोलकीपर वोजशिएक श्जेश्नी ने डाइव करते हुए अच्छा बचाव किया। पोलैंड के दिग्गज खिलाड़ी और सर्वश्रेष्ठ स्ट्राइकरों में से एक लेवांडोव्स्की ने फ्रांस के हाफ में घुसने के लिये कई प्रयास किये।

    फ्रांस को 27वें मिनट में बढ़िया मौका मिला जब बार्सिलोना के विंगर ओस्माने डेम्बले ने गिरोड को क्रास दिया लेकिन वह इसे नेट में नहीं पहुंचा सके। पोलैंड के खिलाड़ी एमबापे को रोकने के लिये हर तरह के प्रयास में जुटे थे। चोउमनी को फ्रांकोवस्की को टैकल कर फाउल करने के लिये इस दौरान पीला कार्ड भी दिखाया और पोलैंड को फ्री किक मिली जो बेकार चली गयी। फ्रांस के गोलकीपर हुगो लौरिस टीम के लिये रिकॉर्ड 142वें मैच में उतरकर सबसे ज्यादा मैच खेलने वाले लिलियन थुरम की बराबरी पर आ गये। उन्होंने 38वें मिनट में पोलैंड के पियोट्र जिलिंस्की के प्रयास का अच्छा बचाव किया।

    दूसरे हाफ में पोलैंड के बातोस्ज बेरेस्जिंस्की को ओस्माने डेम्बेले को गिराने के लिये पीला कार्ड मिला और फ्रांस को फ्री किक। पोलैंड के गोलकीपर ने फ्री किक पर एंटोइन ग्रिजमान के ताकतवर शॉट का डाइव करते हुए अच्छा बचाव किया। एमबापे को इस दौरान मौका मिला, लेकिन उनका शॉट वाइड चला गया।

    गिरोड के पास 66वें मिनट में बढ़त दोगुनी करने का मौका था, उन्होंने पोस्ट के करीब कौंडे के क्रास को दिशा देने की कोशिश की लेकिन यह नेट के साइड से निकल गया। पोलैंड के खिलाड़ी फ्रांस के हाफ में थे और तभी जवाबी हमले में फ्रांस के खिलाड़ियों ने गेंद का रूख बदल दिया। गिरोड ने डेम्बले को पास दिया जिन्होंने इसे एमबापे की ओर किया, इस स्टार ने पोलैंड के बॉक्स में दायें पैर से ताकतवर शॉट से सीधे निशाना गोल में लगाया और श्जेसनी कुछ नहीं कर सके।

    एमबापे इस तरह 24 साल से कम उम्र में विश्व कप में आठ गोल करने वाले खिलाड़ी बन गये। इस तरह उन्होंने पेले के 24 साल पूरे होने से पहले किये रिकॉर्ड सात गोल को पीछे छोड़ा। एमबापे ने फिर एक और जादू दिखाते हुए मैच में अपना दूसरा गोल कर दिया। थुर्रम के पास पर उन्होंने अपने विश्व कप गोल की संख्या नौ कर दी। पोलैंड की टीम 36 साल में पहली बार नॉकआउट दौर में पहुंची थी, उसके लिये सांत्वना गोल 99वें मिनट में ‘हैंडबॉल’ उल्लंघन से हुई पेनल्टी पर हुआ। मैच के दौरान रैफरी ने जूल्स कोंडे की सोने की चेन भी निकलवा दी जो इसे पहनकर खेल रहे थे जो नियमों का उल्लंघन है। (एजेंसी)