goa-congress-yet-to-decide-its-legislature-party-leader
File Photo

    अमरावती. केंद्र की भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सरकार तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीबीआई, ईडी और अन्य केंद्रीय संस्थाओं का इस्तेमाल द्वेष भावना से कर विरोधियों को समाप्त करने का नींदनीय काम देश में शुरू किया है. उसी साजिश के तहत कांग्रेस पार्टी की अखिल भारतीय अध्यक्ष सोनिया गांधी और राष्ट्रीय नेता राहुल गांधी को ईडी नोटिस देकर दबाव डालने का आरोप कांग्रेस ने किया है.

    इसी के विरोध में महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी अध्यक्ष नाना पटोले के नेतृत्व में सोमवार 13 जून को मुंबई व नागपुर के ईडी कार्यालय समक्ष धरना प्रदर्शन किया जाएगा.  सुबह 10.30 बजे नागपुर में धरना प्रदर्शन होगा. इस आंदोलन में विदर्भ के हजारों कांग्रेस कार्यकर्ता यहां एकत्रित होकर विरोध प्रदर्शन करेंगे और ईडी कार्यालय से जवाब मांगेंगे.

    शहर से शामिल होंगे अनेक नेता, कार्यकर्ता

    विरोध प्रदर्शन में अमरावती शहर के अनेक नेता व सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता भी शामिल होंगे. महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी के उपाध्यक्ष व जिले के पूर्व पालकमंत्री डा. सुनील देशमुख के नेतृत्व में शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बबलू शेखावत, महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमिटी के महासचिव किशोर बोरकर, प्रवक्ता मिलिंद चिमोटे व दिलीप एडतकर, पूर्व महापौर विलास इंगोले, महिला कांग्रेस अध्यक्ष अंजलि ठाकरे समेत सैंकडों कार्यकर्ता सुबह 8 बजे नागपुर रवाना होंगे. 

    लोकतंत्र के लिए खतरनाक है ऐसी कार्रवाई

    देश में बढ़ती महंगाई और अराजकता के कारण नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार की लोकप्रियता घटने लगी है. इस देश में आम जनता एक बार फिर कांग्रेस पार्टी और पार्टी अध्यक्षों सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व में विश्वास करते हुए एक नई उम्मीद के साथ कांग्रेस पार्टी की ओर रुख कर रही है. इससे भयभीत होकर बदले की भावना से की जा रही यह कार्रवाई लोकतंत्र के लिए खतरनाक है. कांग्रेस कार्यकर्ता उनकी मंशा को विफल कर देंगे.

    देश में लोकतांत्रिक मूल्यों को कायम रखने के लिए एक नया संघर्ष शुरू करने का विश्वास आंदोलन के समन्वयक पूर्व पालक मंत्री डा. सुनील देशमुख ने व्यक्त किया है. इस आंदोलन में अधिकाधिक संख्या में शामिल होने की अपील कांग्रेस कार्यकर्ताओं से शहर जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष बबलू शेखावत, विलास इंगोले, किशोर बोरकर, दिलीप एडतकर, मिलिंद चिमोटे ने की है.