निलगाय शिकार मामलें में 2 आरोपी अरेस्ट, बिजली करंट लगाकर की गई थी शिकार

    • मुर्झा खेत क्षेत्र की घटना 

    लाखांदूर. जंगल क्षेत्र से खेत क्षेत्र में घुसे एक निलगाय की बिजली करंट लगाकर शिकार करने की घटना हुई थी. इस घटना में स्थानीय वन विभाग के तहत जांच के दौरान संदेह के आधार पर गिरफ्त में लिए गए दो व्यक्तियों की पुछताछ पर शिकार की कबुली दिए जाने से दो आरोपियों को अरेस्ट किया गया है. 

    उक्त घटना 7 नवंबर को सुबह 9 बजे के दौरान तहसील के मुर्झा खेत क्षेत्र में सामने आयी थी. इस घटना में मुर्झा निवासी मोरेश्वर नानाजी गोंधोले (27) व सुरेश आसाराम आन्बेड़ारे (40) आदी दो व्यक्तियों को अरेस्ट किया गया है. 

    प्राप्त जानकारी के अनुसार तहसील के मुर्झा निवासी वसंता ठलाल नामक किसान के खेत में निलगाय का शिकार किए जाने की गुप्त जानकारी 7 नवंबर को स्थानीय लाखांदूर वनविभाग को दी गई थी. हालांकि गुप्त जानकारी के आधार पर वनाअधिकारी एवं कर्मी घटनास्थल पहुंचते देख घटनास्थल पर निलगाय का लगभग 100 से 110 किलो मांस से भरी दो प्लॉस्टीक थैलिया छोड़कर घटनास्थल से शिकारी फरार हूए थे. 

    इस दौरान स्थानीय वन अधिकारी कर्मियों ने निलगाय के मांस से भरी दो थैलिया सहित बिजली करंट लगाने में उपयोगी सामग्री जब्त कर मामलें की जांच शुरु की थी. इस बीच गुप्त जानकारी के आधार पर वन विभाग द्वारा तहसील के मुर्झा निवासी दो व्यक्तियों को संदेह के आधार पर गिरफ्त में लेकर पुछताछ की गई. इस दौरान संदेह के आधार पर गिरफ्त दोनों व्यक्तियों द्वारा निलगाय के शिकार की कबुली दी गई. 

    जिसके अनुसार जिला उपवन संरक्षक एस.बी. भलावी, सहायक वन संरक्षक आर.पी. राठोड के मार्गदर्शन में दोनों शिकारियों के खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 के धारा  2(36), 2(16), 2(20), 9, 39, 50, 51, 57, 52 के तहत अपराध दर्ज कर दोनों आरोपी व्यक्तियों को अरेस्ट किया गया है. इस मामलें की आगे की जांच स्थानीय लाखांदूर के वनपरीक्षेत्र अधिकारी रुपेश गावित कर रहे है.

    आरोपियों की संख्या बढने की आशंका 

    परिसर में चर्चा है कि नीलगाय शिकार मामले में ओर आरोपी होने का संदेह व्यक्त किया है. जिससे आरोपियों की संख्या बढने की आशंका व्यक्त की जा रही है.