relief to Eknath Khadse from High Court

  • एमआईसीडी की जमीन खरीदने का मामला
  • एक और जांच के लिए हूं तैयार : खडसे

मुंबई. प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने अब शिवसेना (Shiv sena) विधायक प्रताप सरनाईक (MLA Pratap Sarnaik) के बाद बीजेपी (BJP) छोड़ कर एनसीपी (NCP) में शामिल हुए एकनाथ खडसे (Eknath Khadse) पर अपना शिकंजा कस दिया है. 

ईडी ने पुणे (Pune) के भोसरी एमआईसीडी की जमीन खरीदने के मामले में खडसे को नोटिस भेजा है. इस मामले में उन्हें 30 दिसंबर को पूछताछ के लिए बुलाया गया है. खडसे दो महीने पहले बीजेपी छोड़ कर शरद पवार की पार्टी एनसीपी में शामिल हुए थे.       

ईडी के बदले सीडी

एनसीपी में शामिल होने के समय एकनाथ खडसे ने बीजेपी नेताओं को चेतावनी देते हुए कहा था कि यदि उनके पीछे ईडी को लगाया गया तो वे इसके जवाब में सीडी लगाएंगे. उनके इस बयान पर मंच पर मौजूद एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने भी मुस्कुराकर प्रतिक्रिया दी थी. ऐसे में अब यह देखना दिलचस्प होगा कि ईडी का नोटिस मिलने के बाद खडसे किन बीजेपी नेताओं की सीडी दिखा कर उन्हें बेनकाब करेंगे.

क्या हैं आरोप

बीजेपी के पूर्व नेता और मंत्री खडसे पर आरोप है कि उन्होंने अपनी पत्नी मंदाकिनी और दामाद गिरीश चौधरी के नाम महाराष्ट्र औद्योगिक विकास निगम (एमआईडीसी) की 40 करोड़ की जमीन महज 3 करोड़ 75 हजार रुपए में खरीदी है. यह जमीन पिंपरी-चिंचवड शहर के भोसरी गांव में है. इस मामले को लेकर सोशल एक्टिविस्ट अंजलि दमानिया ने भी खडसे के खिलाफ आवाज बुलंद कर दी थी. इस आरोप के अलावा अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के साथ कथित संबंधों की वजह से खडसे को फडणवीस सरकार में कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था. हालांकि खडसे ने कहा कि इस मामले में हुई जांच में उन्हें क्लीन चिट मिल चुकी है. इसके बावजूद उन्हें घसीटा जा रहा है.

मुझे पिंपरी-चिंचवड शहर के भोसरी गांव में जमीन खरीदने के मामले में ईडी का नोटिस मिला है. यह जमीन मेरी पत्नी ने खरीदी है. इस मामले में 4 बार जांच हो चुकी है और मुझे क्लीन चिट भी मिली है. अब मैं ईडी जांच के लिए भी तैयार हूं. मैंने सभी जांच में सहयोग किया है और ईडी जांच में भी सहयोग करूंगा. यह बदले की कार्रवाई है कि नहीं इसका आकलन मीडिया और आम जनता को करना चाहिए.

-एकनाथ खडसे, पूर्व मंत्री और एनसीपी नेता