बांधों में पर्याप्त जल संग्रह होने के बावजूद पानी का नियोजन नही

    गोंदिया. जिले में इस वर्ष मानसून मेहरबान रहा है. परिणामस्वरुप जिले के बाघ इटियाडोह सिंचाई विभाग अंतर्गत आने वाले जिले के प्रमुख इटियाडोह बांध, सिरपुरबांध, पुजारीटोला बांध व कालीसराड इन चार बांधों में गत वर्ष की तुलना में इस बार जल संग्रह में वृध्दि हुई है.

    वर्तमान में उक्त सभी बांधों में पर्याप्त जल संग्रह होने के बावजूद सिंचाई विभाग की ओर से रबी मौसम में दिए जाने वाले सिंचाई के पानी का अब तक नियोजन नहीं किया गया है. इस संदर्भ में बाघ इटियाडोह सिंचाई विभाग के नियंत्रण सहायक अधिकारी मेश्राम के अनुसार इस बार नहर सलाहकार समिति की बैठक अब तक नहीं हुई हैं वहीं जिले के किन क्षेत्रों में रबी फसलों से जुडी सिंचाई सुविधा उपलब्ध की जाएगी. इसकी रुपरेखा तैयार नहीं हुई है.

    जिसके चलते रबी फसलों से जुडे क्षेत्रों का समावेश नही किया गया है. जिले में गत 1 जून से अब तक हुई बारिश से इटियाडोह बांध में 188.56 दलघमी जल संग्रह उपलब्ध है. जिसका औसत 59.32 प्रश. दर्ज किया गया है. गत वर्ष इटियाडोह बांध में 266.96 दलघमी जल संग्रह आंका गया था. जिसका औसत 84.61 प्रश. विभाग ने दर्ज किया था. जो इस वर्ष की तुलना में अधिक है. वहीं सिरपुर बांध में वर्तमान स्थिति में 153.82 दलघमी जल संग्रह उपलब्ध है. जिसका 96.27 प्रश.  है.

    जो गत वर्ष 141.80 दलघमी संग्रह के अनुसार 88.75 प्रश. दर्ज है. जो इस वर्ष गत वर्ष की तुलना में अधिक है. पुजारीटोला बांध में वर्तमान स्थिति में 21.81 दलघमी संग्रह का 50.12 प्रश. जल संग्रह दर्ज किया है जो गत वर्ष 31.32 दलघमी था. जिसका औसत 71.96 प्रश. दर्ज हुआ है.  वहीं कालीसराड बांध की वर्तमान स्थिति 13.06 दलघमी के अनुसार इसका औसत 50.13 प्रश. दर्ज किया गया है. जो पिछले वर्ष 19.99 दलघमी था. जिसका औसत 76.76 प्रश. है.   

    बाघ इटियाडोह सिंचाई विभाग के अनुसार इस वर्ष 1 जून से अब तक हुई बारिश से इटियाडोह बांध क्षेत्र में 1471 मि.मी. बारिश दर्ज की गई है. गत वर्ष 981 मिमी. दर्ज की गई है. वहीं सिरपुर बांध क्षेत्र में वर्तमान स्थिति में 1221 मिमी. बारिश हुई है जो गत वर्ष 1020 मिमी. दर्ज की गई. पुजारीटोला बांध क्षेत्र में 1213 मिमी. बारिश हुई जो गत वर्ष 873 मिमी. की तुलना में अधिक है. कालीसराड बांध क्षेत्र में 1173 मिमी. बारिश हुई जो गत वर्ष 928 मिमी. दर्ज की गई है. इस तरह जिले में गत वर्ष की तुलना में अधिक बारिश होने की बात विभाग द्वारा बताई गई है.