Maharashtra government paid floral tribute to Shivaji Maharaj on 391st birth anniversary
FILE PHOTO

    मुंबई/जालना: महाराष्ट्र (Maharashtra) में जालना जिले के एक गांव में प्रवेश द्वार का नाम दिवंगत भाजपा नेता गोपीनाथ मुंडे (Gopinath Mude) के नाम पर रखे जाने तथा छत्रपति शिवाजी महाराज (Statue of Chhatrapati Shivaji Maharaj) की प्रतिमा के मुद्दे पर बृहस्पतिवार को दो समूहों में संघर्ष हो गया। अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि इस दौरान हुए पथराव में 30 से अधिक पुलिसकर्मियों को मामूली चोटें आई हैं और हिंसा के आरोप में 300 से अधिक लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है। 

    उन्होंने बताया कि भोकरदन तहसील के चंदई एको गांव में बृहपतिवार को हुई पथराव की घटना में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भी घायल हो गए।  इस संबंध में एक अधिकारी ने कहा, ”प्रतिमा के मुद्दे पर और प्रवेश द्वार का नामकरण भाजपा नेता के नाम पर किए जाने को लेकर दो समूह आपस में भिड़ गए। हसनाबाद थाने की पुलिस ने मौके पर पहुंचकर हालात को काबू में करने का प्रयास किया।”

    उन्होंने कहा, ”शाम के समय, एक समूह के लोगों ने एक सड़क को अवरुद्ध कर दिया और मार्ग को खाली कराने पहुंचे पुलिसकर्मियों पर पथराव किया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विक्रांत देशमुख समेत 30 से अधिक पुलिसकर्मियों को मामूली चोटें आईं। भीड़ को काबू करने और कानून-व्यवस्था बहाल करने के लिए पुलिस को बल का प्रयोग करना पड़ा।”

    अधिकारी ने बताया कि इस घटना में तीन पुलिस वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गए, जिसके बाद भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं में तीन प्राथमिकी दर्ज की जा रही हैं। उन्होंने बताया कि 300 से अधिक लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है, जिनमें से 34 लोगों की गिरफ्तारी हुई है।

    अधिकारी के अनुसार, झगड़ा तब शुरू हुआ जब एक समूह ने गांव के प्रवेश द्वार का नामकरण छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर किए जाने की मांग की और इस स्थान से शिवाजी महाराज की प्रतिमा को हटाने का विरोध किया। उन्होंने कहा, ” दूसरा समूह चाहता था कि द्वार का नाम मुंडे के नाम पर रखा जाए। जब स्थानीय अधिकारी मशीन लेकर प्रतिमा को हटाने के लिए पहुंचे तो तनाव बढ़ गया और पथराव हुआ।” ग्रामीणों ने कहा कि पुलिस की कार्रवाई में 10 लोग घायल हो गए जिसने आंसू गैस के गोले दागने के साथ ही हवा में गोलियां भी चलाईं। (एजेंसी)