Vaccination
File Photo

    मुंबई. राज्य में स्कूल शुरू (School Reopen) करने की घोषणा शुक्रवार को कर दी है। इस निर्णय से कुछ लोग खुश हैं तो कुछ परेशान। अभिभावकों (Parents) में डर है कि कहीं उनके बच्चे कोरोना (Corona) से संक्रमित न हो जाएं। ऐसे में अभिभावकों ने शिक्षा विभाग से सवाल किया है कि कितने शिक्षकों (Teachers) और गैर-शिक्षक स्टॉफ (Non Teaching Staff) का टीकाकरण (Vaccination) हुआ है? स्कूल शुरू करने के पक्ष शिक्षक, अभिभावक सभी हैं, लेकिन विद्यार्थियों की सुरक्षा सबसे बड़ा प्रश्न है।

    इंडिया वाइड पैरेंट्स असोसिएशन की अध्यक्ष अनुभा सहाय ने कहा कि स्कूल शुरू हो रहे है यह ठीक है, लेकिन शिक्षा विभाग पहले यह डाटा शेयर करें कि राज्य के कितने शिक्षकों और अन्य स्टॉफ ने वैक्सीन ली है। यदि  थोड़ी संख्या में भी लोगों का टीकाकरण बाकी है तो यह सभी के लिए जोखिम का कार्य होगा। शिक्षक हो या फिर विद्यार्थी सभी को घर से स्कूल जाने के लिए सार्वजनिक यातायात साधनों का सहारा लेना होगा, ऐसे में संक्रमण का खतरा अधिक है, क्योंकि बच्चों का टीकाकरण अभी भी नहीं हुआ है। ऐसे में स्कूल शुरू करने का निर्णय जल्दबाजी में लिया गया। 

     इकट्ठा किया जा रहा है डाटा

    शिक्षा विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि कितने शिक्षकों और स्टॉफ ने टीका लिया है इसका डाटा इकट्ठा किया जा रहा है। शिक्षक भारती संघटन के कार्याध्यक्ष सुभाष मोरे ने कहा कि सरकार द्वारा स्कूल शुरू करने के निर्णय का हम स्वागत करते हैं। ये विद्यार्थियों के लिए बेहद जरूरी है। बस सरकार स्कूलों के लिए आर्थिक पैकेज घोषित करें ताकि मास्क, सेनिटाइजर, थर्मल गन आदि आवश्यक वस्तुओं की खरीदी स्कूल कर पाए।

    मुंबई में खुलेंगे स्कूल!, सोमवार को निर्णय

    महानगरपालिका शिक्षा विभाग के सूत्रों की माने तो मुंबई में भी 4 अक्टूबर से स्कूल शुरू हो सकते हैं। सोमवार को महानगरपालिका कमिश्नर के समक्ष स्कूल  शुरू करने का प्रस्ताव रखा जाएगा और स्कूल शुरू करने को लेकर कमिश्नर सकारात्मक होनी की बात कही जा रही है। सोमवार तक यह निर्णय हो जाएगा कि मुंबई में भी ऑफलाइन पढ़ाई शुरू होगी या नहीं।