Omicron is spreading its feet: 20 infected again found in Maharashtra on the second day, the number reached 108
File Photo

    मुंबई: मध्य दिसंबर से शुरू हुई तीसरी लहर (Third Wave) के पीछे कोरोना (Corona) के ओमीक्रोन वेरिएंट (Omicron Variants) को बड़ा कारण बताया जा रहा है। वैसे तो अधिकतर ओमीक्रोन से ग्रसित मरीज 3 से 4 दिन में ठीक हो रहे हैं, लेकिन उसके बाद कुछ लोगों में कमजोरी, बेचैनी, सिर और बदन दर्द की शिकायत होने की बात शहर के डॉक्टरों ने कही है। हालांकि डॉक्टरों ने कहा कि इसे पोस्ट कोविड दिक्कत कहना जल्दबाजी होगी, क्योंकि ये लोग हाल ही में ठीक हुए हैं। अब यह देखना होगा कि आगामी दो से तीन सप्ताह बाद भी क्या ठीक हुए लोगों को इन दिक्कतें कायम रहती हैं।

    कोविड की दूसरी लहर में कोरोना के डेल्टा वेरिएंट (Delta Variants) ने काफी कोहराम मचाया था। बीमारी से ठीक होने के बावजूद कई मरीजों में पोस्ट कोविड स्वास्थ्य समस्याएं सामने जैसे नींद न आना, न्यूरो से संबंधित समस्या, बेचैनी आदि की शिकायत आ रही थी, जो लंबे समय तक लोगों को परेशान कर रही थी। क्या ओमीक्रोन से ग्रसित लोगों ने भी पोस्ट कोविड समस्याएं होंगी इसे जानने के लिए शहर के डॉक्टरों से बात की गई। 

    हेल्थ वर्कर्स में भी यह समस्या देखने को मिली  

    बीएमसी के सेवन हिल्स अस्पताल के प्रमुख डॉ. बालकृष्ण अडसुल ने बताया कि तीसरी लहर में कोविड संक्रमित हुए और ठीक हुए कुछ लोग थकान और बेचैनी महसूस कर रहे हैं। हमारे हेल्थ वर्कर्स में भी यह समस्या देखने को मिली है। पहले यदि कोई संक्रमित होता था तो उसे कम से कम 10 से 14 दिन तक आइसोलेशन में रखा जाता है, लेकिन अब 4 से 5 दिन में रिकवरी हो जाती है और 7 दिन में आइसोलेशन भी खत्म हो जाता है। उसके बाद वे ड्यूटी पर लौटते हैं, लेकिन उनमें उक्त समस्या देखने को मिल रही है। अब यह देखना होगा कि यह समस्या कुछ दिनों के लिए रहती है या लंबे समय के लिए।

    फिलहाल बीमारी से ठीक होने वाले लोगों में थकान, बदन दर्द खासकर पीठ दर्द की समस्या देखने को मिल रही है। कई बार फीवर के साथ बदन दर्द के समस्या काफी हद्द तक बढ़ जाती है, जिसे ठीक होने में थोड़ा समय लगता है। फिलहाल इसे पोस्ट कोविड समस्या कहना जल्द बाजी होगी। हमें तीन सप्ताह का इंतजार करना होगा। उसके बाद यह पता चलेगा की और क्या समस्या लोगों में हो रही है।

    -डॉ. तृप्ति गिलाड़ा, संक्रामक रोग विशेषज्ञ, मसीना अस्पताल

    तीसरी लहर में प्रभावित होनेवाले कई मरीज ओपीडी में फॉलो अप के लिए आते हैं। बीमारी के बाद कमजोरी, थकान महसूस करना और सिर दर्द या बदन दर्द की समस्या होती है। ऐसे में उन्हें मल्टीविटामिन दिया जाता है और पोषक आहार खाने के लिए कहा जाता है ताकि उनकी सेहत में सुधार हो। फिलहाल कोई मेजर पोस्ट इफेक्ट देखने को नहीं मिला है।

    - डॉ. विद्या ठाकुर, चीफ मेडिकल सुप्रीटेंडेंट और अधीक्षक राजावाड़ी अस्पताल