Arrested
प्रतिकारात्मक तस्वीर 

    नागपुर. औरंगाबाद से नागपुर आकर स्टेशन परिसर में अनजान रेल यात्री को पैसा और मोबाइल डबल करने का झांसा देने वाले ठगबाजों की गैंग को लोहमार्ग पुलिस ने दबोचा. आरोपियों के नाम देवलाई, औरंगाबाद निवासी सरदार मदारी रफीक (35), रफीक गुलाम मदारी (35) और महमूद मेहताब मदारी (39) के अलावा बडनेरा निवासी युनूस सैयद मदारी (31) बताये गये. 

    2 दिन में 2 वारदातें

    आरोपी बहुत ही शातिर तरीके स्टेशन में परिसर में ऐसे यात्रियों को निशाना बनाते थे जो कम पढ़े-लिखे हो. उन्होंने 2 दिन में 2 यात्रियों को मोबाइल और पैसे डबल करके देने का झांसा दिया. इनमें से 2 आरोपी स्टेशन के पूर्व भाग और अन्य 2 पश्चिम भाग में अपना काम करते थे. पहली वारदात में पश्चिम भाग में बुकिंग ऑफिस के सामने फुटपाथ पर बैठे यात्री से 1,000 रुपये और मोबाइल की ठगी की. अगले दिन प्लेटफार्म 8 पर 19 वर्षीय युवक से 1,400 रुपये और मोबाइल डबल करके देने का झांसा दिया और भाग गये. 

    हावड़ा-मुंबई एक्स. में किया गिरफ्तार

    ऐसे और मामले बढ़ने की संभावना के तहत लोहमार्ग पुलिस ने तुरंत ही आरोपियों की तलाश शुरू कर दी. प्लेटफार्म 8 पर हुई वारदात में मिली शिकायत के आधार पर सीसीटीवी रिकार्डिंग जांच में आरोपियों की पहचान हुई. पता चला कि वे हाल ही में हावड़ा-मुंबई एक्सप्रेस की एस8 कोच में सवार होकर नागपुर से निकले हैं तुरंत ही जीआरपी थाने के माध्यम से वर्धा जीआरपी को सूचित किया गया. हालांकि सेवाग्राम स्टेशन पर ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया. उनके पास से 6 मोबाइल, 4,000 रुपये नकद और 200 रुपये का एक नकली नोट मिला.

    3 दिन को PCR

    आरोपियों को कोर्ट के समक्ष पेश किया गया. जहां से उन्हें 3 दिन के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया. पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वे अलग-अलग स्टेशनों पर इस प्रकार की ठगी करते हैं और फिर उस शहर से चले जाते हैं. नागपुर में वारदात करने के लिए वे कुछ दिन पहले ही आये थे और ताजबाग परिसर में लॉज में रह रहे थे लेकिन वापसी के समय जीआरपी के हत्थे चढ़ गये. यह कार्रवाई एसपी एम. राजकुमार, पीआई मनीषा काशिद के मार्गदर्शन में एपीआई सरवडे, एपीआई सरोदे, धोंगड़ी ने की.