Manmad ST Strike

    मनमाड: पुलिस (Police) ने मनमाड-नांदगांव (Manmad-Nandgaon) के 21 एसटी कर्मचारियों को हिरासत में लिया। ये सभी मुंबई (Mumbai) के आजाद मैदान (Azad Maidan) में चल रहे एसटी कर्मियों के आंदोलन (Protest) में शामिल होने के लिए जा रहे थे। पुलिस को जानकारी मिलने के बाद इन सभी को रेलवे स्टेशन (Railway Station) पर हिरासत में लिए जाने के बाद उन्हें थाने लाया गया। यहां 3 घंटे के बाद सभी को रिहा कर दिया गया। 

    रिहाई के बाद एसटी कर्मियों ने कहा कि सरकार हम पर कितना भी अत्याचार क्यों न करें, लेकिन जब तक हमारी मांगे नहीं मानी जाती तब तक हम हड़ताल  (ST Strike) वापस नहीं लेंगे। वहीं दूसरी तरफ हड़ताल के कारण एसटी बस सेवा पूरी तरह बंद होने के कारण यात्रियों को काफी परेशानी उठानी पड़ रह है।

    17 दिनों से हड़ताल जारी

    एसटी महामंडल का सरकार में विलय किये जाने की मुख्य मांग सहित अन्य लंबित मांगों को लेकर एसटी कर्मियों द्वारा अनिश्चितकालीन हड़ताल विगत 17 दिनों से यह हड़ताल जारी है। लेकिन अभी तक इसका कोई समाधान नहीं निकला है। राज्य के हजारो एसटी कर्मी मुंबई के आझाद मैदान में आंदोलन कर रहे हैं। इस आंदोलन में शामिल होने के लिए मनमाड-नांदगाव से 21 कर्मी शनिवार सुबह पंचवटी एक्सप्रेस से मुंबई जा रहे थे। 

    हड़ताल से आम नागरिकों को हो रही परेशानी

    पुलिस को इसकी जानकारी मिलने के बाद सहायक पुलिस निरीक्षक प्रल्हाद गीते, गौतम तायडे आदि ने रेलवे स्टेशन पर पहुंचकर सभी एसटी कर्मियों को हिरासत में लिया था और 3 घंटे के बाद सभी को रिहा कर दिया गया।गौरतलब है कि हड़ताल के कारण विगत 17 दिनों से मनमाड का एसटी डिपो से एक बस बस नहीं छोड़ी गयी। जिसके कारण आम यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं महामंडल का भी लाखो रुपये का नुकसान हो रहा है।