आत्मनिर्भर भारत के तहत सूक्ष्म उद्योगों की तैयारी – कृषि आयुक्तालय की ओर प्रस्ताव

वाशिम. आत्मनिर्भर भारत के तहत प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग अन्नयन योजना एक जिला एक उत्पादन यह योजना जिले में चलाने के लिए कृषि मालों पर आधारित सूक्ष्म उद्योग निर्मिति के लिए आत्मा जिला नियामक मंडल सभा में चयन करने के संबंध में कृषि आयुक्तालय ने सूचित किया था़ इस के अनुसार जिले में सर्वाधिक उत्पन्न रहनेवाले सोयाबीन व चना फसल पर आधारित सू्क्ष्म उद्योग निर्मिति को मंजूरी देने के लिए जिला प्रशासन ने कृषि आयुक्तालय की ओर प्रस्ताव भेजा है़.

आत्मनिर्भर भारत के तहत प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग अन्नयन योजना (पीएमएफएमई) एक जिला एक उत्पादन यह योजना चलाने का सरकार का मानस है़  इस के तहत कृषि मालों पर आधारित सूक्ष्म उद्योग निर्मिति के लिए आत्मा जिला नियामक मंडल की सभा आयोजित करके एक ही उत्पादन का चयन करने समेत किसान समूह से आवेदन आमंत्रित करने की सूचना पीएमएफएमई के नोडल अधिकारी तथा कृषि आयुक्तालय के संचालकों ने दिए थे़  इसके अनुसार वाशिम जिलाधिकारी कार्यालय में जिलास्तरीय समिति की सभा का आयोजन किया गया था़.

इस में जिले में सर्वाधिक उत्पादन होनेवाले चना और सोयाबीन फसल पर चर्चा की गई थी़  जिले में सोयाबीन का क्षेत्र 3 लाख हेक्टेयर व चना का क्षेत्र 63 हजार हेक्टेयर से अधिक रहने से इन फसलों पर आधारित उद्योग निर्मिति के लिए किसानों से प्रतिसाद भी प्राप्त होता है़  इस पृष्ठभूमि पर जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी तथा आत्मा प्रकल्प संचालकों ने इन फसलों पर आधारित सुक्ष्म उद्योग निर्मिति के लिए मंजूरी देने की मांग का एक पत्र कृषि आयुक्तालय की ओर प्रस्तुत किया है़ 

किसान उद्योजकों को मिलेगा अवसर 

जिले में आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत कृषि मालों पर आधारित सूक्ष्म उद्योग निर्मिति के लिए हलचल शुरू हो गई है़  जिससे किसान उद्योजकों को अवसर मिलनेवाला है़  कोरोना संकट के दौरान कुछ योजनाएं प्रभावित हुए थी़  लेकिन अब कोरोना वायरस का आलेख कम होने से सरकार ने फीर से किसानों के लिए विविध उपक्रम व योजना शुरू करने से किसानों को नए अवसर उपलब्ध होनेवाले है़ 

जिले में आत्मनिर्भर भारत के तहत प्रधानमंत्री सूक्ष्म उद्योग उन्नयन योजना (पीएमएफएमई) एक जिला एक उत्पादन यह योजना चलाने के उद्देश्य से सरकार की ओर प्रस्ताव भेजने के लिए जिला कृषि विभाग ने किसान, किसान समूह की मानसिकता जानने के लिए उनसे 15 दिसंबर तक ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए थे़.

इस के लिए अच्छा प्रतिसाद प्राप्त होकर जिले से 20 किसान उत्पादक कंपनी से इस योजना के तहत उद्योग निर्मिति के लिए आवेदन किए गए है़  जिला अधीक्षक कृषि अधिकारी शंकर तोटावार ने बताया कि कृषि आयुक्तालय के निर्देश के अनुसार प्रस्ताव भेजा है. इसके लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया भी पूरी हो गई है़  इसमें निर्धारित 15 दिसंबर तक 20 आवेदन प्राप्त हुए है़.