प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    • पुलिस की मुकसम्मती
    • एसपी.डा. भुजबल के आदेशों की अवहेलना

    उमरखेड. उमरखेड शहर समेत ग्रामीण ईलाकों में दिनों अवैध व्यवसाय खुलेआम शुरु हैं, इसे पुलिस प्रशासन का अभय मिलने की चर्चा क्षेत्र में जारी है. कोरोना महामारी के दौर में डेढ वर्ष तक शहर के मटका काऊंटर बंद पडे थे, लेकिन अब यह अवैध काऊंटर नए उत्साह से शुरु हो चुके है.

    जिसे उमरखेड थानेदार की मुकसम्मती मिली हुई है.शहर समेत ग्रामीण ईलाकों में गुटखा,वरली मटका कम अधिक पैमाने पर खुलेआम शुरु है. जिला पुलिस अधिक्षक डा.दिलीप पाटील भुजबल द्वारा अवैध धंदों पर नकेल कसने के आदेश है, लेकिन इन आदेशों की अवहेलना कर थानाक्षेत्र में अवैध धंदों को बढावा देकर आम जनता की लुट करने की जैसे अलिखित अनुमति पुलिस प्रशासन ने दे रखी है, एैसा सवाल आम नागरिक कर रहे है.

    कोरोना महामारी से पहले ही सर्वसामान्य परिवार आर्थिक तौर पर त्रस्त हो चुके है, एैसे में शहर में मटका लेवाल देवाल करनेवालों को मुकसम्मती दर्शाने से शहर में मटका दुकाने खुलेआम शुरु कर दी गयी है. शहर के पुलिस थाने के निकट नागचौक, बसस्थानके सामने का ईलाका, खडकपुरा,बाजारलाईन,पुसद रोड,महागांव रोड,नांदेड रोड,करोडी रोड और ढाणकी रोड पर अनेक वरली मटका काऊंटर शुरु है.

    इसके अलावा शहर में गुटखा बिक्री भी धडल्ले से शुरु है,जबकी शहर के निकट खेतों में जुआ अडडे उसी तरह ग्रामीण ईलाकों में आनेवाले पोफाली,मुलावा,कृष्णापुर,विडूल, ब्राम्हणगांव, चालगणी,साखरा,खरूस,बेलखेड,मरसुल,कुपटी,पलसी,सुकली आदि गांवों में भी वरली काउंटर दिनदहाडे शुरु है.यवतमाल जिला पुलिस अधिक्षक ने जिले के अवैध धंदों पर कडी नजर रखते हुए कारवाई के आदेश दिए, लेकिन इन आदेशों का उल्लंघन कर उमरखेडशहर और ग्रामीण भागों में यह धंदे शुरु होने से हैरानी जतायी जा रही है.

    कोरोना महामारी के बाद अब ओमायक्रॉन इस नए जानलेवा बिमारी से सभी स्तरों पर डर व्याप्त है, इसके अलावा एक के पिछे एक आनेवाले प्राकृतीक संकटों सें किसन और आम जनता हताश है, एैसे में आर्थिक परेशान किसान, आम नागरिकों कों अवैध धंदों की लूट से बचाने की बजाय पुलिस से प्रोत्साहन मिलने से आम नागरिकों में चिंता जतायी जा रही है.

    हाल ही में उमरखेड के उपविभागीय पुलिस अधिकारी के रुप में प्रदिप पाडवी की नियुक्ती की गयी है, जल्द ही वें अपना पदभार संभालेंगे, लेकिन उनके आगमन के पहले ही तहसील में खुलेआम मटका काऊँटर, अवैध शराब, गुटखा तस्करी शुरु होने से उनके सामने इन अवैध धंदों पर नकेल कसने की चुनौती होंगी.