सड़क मरम्मत करने किया रास्ता रोको

  • शिवसेना के आंदोलन से यातायात प्रभावित

करंजी रोड. शिव सेना तहसील प्रमुख तिरुपति कंदकुरिवार ने सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ विभिन्न मांगों को लेकर करंजी के मोठा बोगदा में रास्ता रोको आंदोलन किया. इस समय पुलिस का एक बड़ा दल मौके पर मौजूद था. एक घंटे तक रास्ता रोको आंदोलन किए जाने से सड़क का यातायात प्रभावित हो गया था.

पुलिस की मध्यस्थता से शिवसेना तहसील प्रमुख कंदकुरिवार व एनएचआई अधिकारी के साथ बातचीत कर सड़क की मरम्मत का कार्य अगले दो दिनों में करने का आश्वासन दिया. पश्चात आंदोलन कारियों ने रास्ता रोको आंदोलन वापस लिया गया. ज्ञात हो कि शिवसेना तहसील प्रमुख तिरुपति कंदकुरिवार ने एनएचआई के अधिकारियों से बार-बार आग्रह किया कि वणी-यवतमाल मार्ग पर करंजी से गुजरने वाली खस्ताहाल सड़क की मरम्मत की जाये.

आश्वासन के बाद माने आंदोलक

23 नवंबर को सौंपे ज्ञापन में करंजी से गुजरने वाले चंद्रपुर-यवतमाल मार्ग पर 23 दिसंबर रास्ता रोको आंदोलन करने की पूर्व में चेतावनी दी गई थी. इसके तहत एनएचआई अधिकारी, तहसीलदार, थानेदार को ज्ञापन सौंपकर सूचित किया गया था. आंदोलन में संजय आंबटकर, संजय कुंडलवार, बाबूलाल चव्हाण, नारायण वासेकर, भीमराव आत्राम, किशोर आडे, नागसेन भगत, कृष्णा गजबे, आनंद साठे, अतुल चोपड़ा, संतोष आडे, धनराज दाहिगडे, अंकित पेंढारकर, तेजस चोपड़ा, संतोष पवार, संतोष चव्हाण, रूपेश राठौड़, सागर मुडे, जीवन राठौड़, अमोल जाधव, रामेश्वर चव्हाण के साथ बड़ी संख्या में ग्रामीण शामिल हुए.

पुलिस और प्रदर्शनकारियों में हुई झड़प

कुछ समय के लिए पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच में झड़प हुई और यह सुनिश्चित करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस मौजूद थी. इस समय कोई अप्रिय घटना नहीं हुई. एपीआई हेंलोंडे की मध्यस्थता में नेशनल हाईवे प्रतिनिधि को बुलाकर सड़क की मरम्मत के कार्य पर बातचीत करने के पश्चात, आगामी दो दिनों में मरम्म्मत कार्य शुरू करने का आश्वासन मिलने पर आंदोलनकर्ताओं ने आंदोलन वापस लिया.