ufo
File Pic

    नई दिल्ली : दुनियाभर में हर साल 2 जुलाई को UFO यानी अनआईडेन्टिफाइड फ्लाइंग ऑब्जेक्ट (Unidentified Flying Object) दिवस मनाया जाता है। लोगों को UFO के प्रति जागरूक करने के लिए इस दिन का खासतौर पर चयन किया गया है। आपने ऐसी कई हॉलीवुड और बॉलीवुड मूवीज देखी होगी। जिनमें Aliens और UFO का जिक्र किया गया है और इन मूवीज में तो Aliens और UFO को धरती पर आते हुए भी देखा गया है। जिसके बाद तो UFO यानी उड़नतश्तरी को लेकर आपके मन में भी कई सवाल होंगे की क्या इनका वाकई में कोई अस्तित्व है? तो चलिए, आज हम आपको आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश करते हैं।  

    बता दें कि वर्ल्ड यूएफओ डे (World UFO Day) की शुरुआत वर्ल्ड यूएफओ आर्गेनाइजेशन (World UFO Organization) ने की थी। दरअसल, कुछ लोगों का ऐसा मानना है कि यूएफओ नहीं होते हैं और न ही इनके अस्तित्व से जुड़ा कोई भी पुख्ता सबूत मौजूद है। तो वहीं कई लोगों को इसके होने पर पूरा यकीन है। बता दें, यूएफओ के अस्तित्व को लेकर शोधकर्ताओं के बीच बहस अभी भी जारी है। सिर्फ इतना ही नहीं, यूएफओ के रहस्‍य को कई देशों के वैज्ञानिक सुलझाने में लगे हुए हैं। वर्ल्ड यूएफओ डे को मनाये जाने के पीछे का खास मकसद लोगों को इसके प्रति जागरूक करना है ताकि वह आसमान में अनजान दिखने वाली चीजों के बारे में जानकारी साझा करें। 

    क्या होता है UFO?

    दरअसल, हमें कभी-कभी आसमान में चमकती हुई या फिर आसमान से नीचे की तरफ आती हुई कोई अनदेखी और अद्भुत सी चीजें दिखाई देती है जो अचानक गायब भी हो जाती है। कुछ लोग इसे ही उड़नतश्तरी यानि UFO मानते है। हालांकि, की समय-समय पर इससे जुड़ी जानकारियां सांझा की जाती है और शोधकर्ता लगातार अपनी कोशिशों के जरिये जानकारी हासिल करने का प्रयास कर रहे है।