समस्या है विकट अब गैंगस्टर पर भी डाक टिकट

पड़ोसी ने हमसे कहा, ‘‘निशानेबाज(Nishanebaaz), विख्यात लोगों की स्मृति में डाक टिकट (Postage Stamps) जारी होते हैं लेकिन क्या कुख्यात लोगों पर भी टिकट जारी हो सकता है? हमारा आशय गैंगस्टर (Gangsters) या माफिया डॉन टाइप के लोगों से है. ऐसे व्यक्ति भी अपना नाम चमकाना चाहते हैं. क्या इसका कोई रास्ता है?’’ हमने कहा, ‘‘जहां चाह वहां राह! गुंडा भी तो इसी समाज का अंग होता है. एक मराठी कहावत है- पुत्र व्हावा अशा गुंडा ज्याचा तिनी लोकी झेंडा अर्थात बेटा ऐसा दबंग होना चाहिए जिसका तीनों लोकों में झंडा फहराना चाहिए.

केंद्र सरकार माई स्टैंप योजना के तहत कोई गुंडा-माफिया भी अपने चित्र वाली डाक टिकट भी मजे से छपवा सकता है. कानपुर में यही हुआ. वहां प्रधान डाकघर से माफिया छोटा राजन (Chhota Rajan, Munna Bajrangi) और बागपत जेल में गैंगवार में मारे गए मुन्ना बजरंगी के डाक टिकट जारी हो गए. इन डाक टिकटों को लिफाफे पर चिपकाकर धड़ल्ले से चिट्ठियां भी भेज दी गईं. स्टैंप कलेक्शन का शौक रखने वाले लोग डाकघर की मुहर लगी इन टिकटों का भी संग्रह कर सकते हैं.’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, डाक टिकट तो महापुरुषों, स्वाधीनता सेनानियों, संगीतज्ञों, भक्त कवियों, समाज सुधारकों की स्मृति में जारी किए जाते हैं. किसी एंटी सोशल या गिरोह सरगना का चित्र डाकटिकट पर कैसे छप सकता है?’’ हमने कहा, ‘‘लगता है आपको माई स्टैंप योजना की जानकारी नहीं है. इसके तहत 300 रुपए फीस जमा करके लोग अपनी या किसी परिजन की तस्वीर वाले 12 डाक टिकट जारी करवा सकते हैं.

ये टिकट अन्य राज्य टिकटों की तरह मान्य होते हैं. इन्हें लिफाफे पर चिपकाकर आप देश के किसी भी कोने में डाक भेज सकते हैं. छोटा राजन और मुन्ना बजरंगी दोनों पर 5-5 रुपए वाले डाक टिकट जारी हुए हैं.’’ पड़ोसी ने कहा, ‘‘निशानेबाज, तब तो कोई ऐरा-गैरा नत्थू खैरा भी 300 रुपए देकर अपने डाक टिकट छपवा सकता है.’’ हमने कहा, ‘‘इसके लिए पासपोर्ट साइज फोटो, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस या वोटर आईडी लेकर खुद डाक विभाग आना पड़ता है और एक फार्म भरकर पूरी जानकारी देनी पड़ती है. अच्छी तरह क्रॉस चेकिंग के बाद आवेदक के फोटो वाला डाक टिकट जारी होता है.’’ हमने कहा, ‘‘इसके बावजूद ऐसे गैंगस्टर के फोटो वाले डाक टिकट जारी होना हैरत की बात है. बगैर किसी जांच-पड़ताल के ऐसा किया गया. लगता है कुएं में भांग पड़ी है.’’