हडताल करनेवाले कार्रवाई के संकट में महीने भर के पश्चात भी एसटी का हडताल शुरू ही

    भंडारा. महीने भर से शुरू होनेवाले एसटी कर्मचारियों का हडताल शुरू होकर मांगों पर अभीतक कोई भी हल नहीं निकला है. इस दौरान हडताल में रहोगे तो नोकरी जाने का डर एवं रूजु हुए तो सहयोगियों की धमकी इससे अनेक हडताली दुहेरी संकट में आए है. परिणामी रूजु हुए कर्मचारियों को धमकी मिलते ही पिछे हो रहे है. 

    भंडारा परिवहन विभाग में भंडारा, तुमसर, साकोली, पवनी, गोंदिया एवं तिरोडा ऐसे 6 डिपो होकर इस विभाग में चालक, वाहक, यांत्रिक मजदूर, लिपीक ऐस कुल 1 हजार 835 कर्मचारी है. 

    11 कर्मचारी रूजू 

    आंदोलन की वजह से अपने उपर आपदा नहीं आए इसके लिए कर्मचारियों का रूजू होने का प्रमाण बढ रहा है. इस दौरान मंगलवार को भंडारा डिपो के 3 वाहक, साकोली 2 चालक, गोंदिया में 5 वाहक एवं पवनी में 1 वाहक डयुटी पर रूजू हुए है. 

    86 लोगों की सेवा समाप्ती 

    महिने भर से शुरू होनेवाले हडताल संबंध में हल नहीं निकलने से सरकार के सुचना अनुसार महामंडल ने भंडारा विभाग के 86 कर्मचारियों को सेवा समाप्ती का आदेश दिया है. 

    193 लोगों का निलंबन 

    एसटी चालक, वाहक, यांत्रिक मजदूर एवं लिपीक यह डयुटी पर रूजू नहीं होने आंदोलन में हिस्सा लेने से मंगलवार को 14 कर्मचारियों का निलंबन किया गया है. निलंबन हुए कर्मचारियों की संख्या अभी 193 इतनी हुई है. कर्मचारी ऐसे ठाम रहे तो निलंबन की कार्रवाई शुरू रहेगी ऐसा महामंडल ने बताया है. 

    साकोली-भंडारा दो फेरी

    मंगलवार 30 नवंबर को साकोली डिपो ने साकोली से भंडारा एवं भंडारा से साकोली ऐसे चार फेरी किया. इस बस फेरी की वजह से यात्रियों को बडी राहत मिली है. इस बस ने मंगलवार को 240 यात्रियों ने यात्रा की है.