सड़क की उखड़ी गिट्टी, लोग कर रहे जानलेवा सफर; जनप्रतिनिधि और प्रशासन की उदासिनता

    पेरमिली. एक तरफ सरकार द्वारा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना और मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्र के गांवों को सड़कों से जोड़ा जा रहा है. लेकिन दुसरी ओर राज्य के आखरी छोर पर बसे गड़चिरोली जिले के ग्रामीण व दुर्गम क्षेत्र में अब तक विकास की गंगा पहुंचते नजर नहीं आ रही है. ऐसा ही एक मामला अहेरी तहसील के पेरमिली-कुरूमपल्ली क्षेत्र के सामने आया है.

    जिला निर्माण के 39 वर्ष बाद भी पेरमिली-कुरूमपल्ली  इस मार्ग का डामरीकरण नहीं किया गया है. जिसके कारण वर्तमान स्थिति में उक्त 15 किमी के मार्ग की गिट्टी पुरी तरह उखड़ गयी है. जिसके कारण परिसर के नागरिकों को जानलेवा सफर करना पड़ रहा है.  लेकिन इस मार्ग के निर्माण और डामरीकरण की ओर जनप्रतिनिधि व प्रशासन की अनदेखी होने के कारण परिसर के नागरिकों में तीव्र नाराजगी व्यक्त की जा रही है. 

    15 किमी की दुरी पर दो नाले

    पेरमिली-कुरूमपल्ली इस 15 किमी दुरी के मार्ग पर दो नाले है. लेकिन अब तक इन दो नालों पर पुलियाओं का निर्माण नहीं किया गया है. जिसके कारण बरसात के दिनों में क्षेत्र के नागरिकों को आवागमन करने में भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. वहीं अधिक बारिश होने के कारण परिसर के करीब 4 से 5 गांवों का संपर्क तहसील मुख्यालय से टूट जाता है. पिछले अनेक वर्षो से मुख्य मार्ग का डामरीकरण करने समेत नालों पर पुलियाओं का निर्माण करने की मांग की जा रही है. लेकिन अब तक किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं की गई है.

    5 गांवों के नागरिक हुए त्रस्त 

    पेरमिली-कुरूमपल्ली इस मार्ग पर पल्ले, कुरूमपल्ली, रापेली, एकरा और कोडकसा यह गांव बसे हुए है. ऐसे में सड़क की गिट्टी पुरी तरह उखड़ी होने के कारण इन गांवों के नागरिकों को इस मार्ग से जानलेवा सफर करना पड़ रहा है. अनेक बार जानलेवा बने सड़क के चलते हादसे भी हुए है. जिसके कारण इस सड़क के कारण संबंधित 5 गांवों के नागरिकों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. 

    तत्काल करें सड़क का निर्माण: आत्राम

    पेरमिली ग्रापं पंचायत के पूर्व सरपंच तथा वर्तमान सदस्य प्रमोद आत्राम ने बताया कि, पेरमिली-कुरूमपल्ली मार्ग  के निर्माण को लेकर अनेक बार प्रशासन और जनप्रतिनिधियों का ध्यानाकर्षण कराया. लेकिन अब तक सड़क निर्माण करने संदर्भ में किसी भी तरह की पहल नहीं की गई है. जिसके कारण इस परिसर के नागरिकों को जानलेवा सफर करना पड़ रहा है. लोगों को होनेवाली परेशानियों को गंभीरता से लेते हुए तत्काल मार्ग का निर्माण करें,ऐसी मांग उन्होंने की है.