grampanchayt Election

गोंदिया. जिले की 189 ग्रापं का चुनाव 15 जनवरी को होने वाले है. इसमें अब जिप चुनाव की तरह महत्व प्राप्त हुआ है. उम्मीदवारों की ओर से बड़े पैमाने पर खर्च किया जाता है. जिससे चुनाव आयोग ने 7 से 9 सदस्य संख्या वाले ग्रापं के उम्मीदवारों को 25,000 रुपये, 11 से 13 सदस्यों वाले उम्मीदवारों को 35,000 व 15 से 17 सदस्य वाली ग्रापं के लिए उम्मीदवारों को 50,000 रुपये तक खर्च की सीमा निर्धारित कर दी है. ग्रापं को 14 वें वित्त आयोग व अन्य योजनाओं से बड़े पैमाने पर निधि मिलती है. वहीं जिप सदस्य बनने की अपेक्षा ग्रापं का सरपंच होने के लिए आजकल स्पर्धा बढ़ी हुई दिखाई दे रही है.

स्थानीय स्तर पर पकड़ मजबूत करने ग्रापं चुनाव यह महत्वपूर्ण है. जिससे राजनीतिक पार्टियों सहित अन्य उम्मीदवार भी चुनाव मैदान में उतरने लगे हैं. जितने के लिए खर्च को आगे पीछे नहीं देखते है. जिससे ग्रापं चुनाव में उम्मीदवार का बजट अब लाखों तक पहुंच गया है. 

तयसीमा से ज्यादा खर्च पर जाएगी सदस्यता

खर्च की सीमा नियंत्रण में रहे इसके लिए चुनाव आयोग ने उम्मीदवारों के खर्च की सीमा बढ़ाकर निर्धारित कर दी है. अब इसके अंदर खर्च करना पड़ेगा, अन्यथा सदस्यों की सदस्यता रद्द हो सकती है. चुनाव के दौरान उम्मीदवार के माध्यम से किए गए खर्च का उचित तालमेल हो इसके लिए चुनाव अवधि में बैंक में स्वतंत्र खाता खोलना अनिवार्य किया गया है. इसी तरह चुनाव परिणाम के बाद 30 दिन के अंदर सभी खर्च का हिसाब प्रस्तुत करना होगा. विशेष बात यह है कि इन सब प्रक्रिया पर चुनाव विभाग की नजर रहेगी. जिससे उम्मीदवारों को मतदाताओं को खुश करने के लिए खर्च करते समय इन सभी बातों पर विचार करना पड़ेगा. 

4,000 युवा पहली बार करेंगे वोटिंग

जिले में 1634 जगहों के लिए जिले के 3 लाख 38 हजार 333 मतदाता अपने मतदान अधिकार का उपयोग करेंगे. 4 हजार मतदाता पहली बार चुनाव में अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे. जिले में 689 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे. 4 हजार युवा मतदाता इस बार चुनाव में पहली बार वोट डालेंगे. जिससे युवाओं में भी उत्साह है. ग्रापं चुनाव के लिए उम्मीदवारी आवेदन दाखिल करने की प्रक्रिया बुधवार से शुरू हो गई है. प्रक्रिया 30 दिसंबर तक चलेगी. इसके बाद 4 जनवरी को उम्मीदवारी नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि है. 15 जनवरी को मतदान व 18 जनवरी को मत गणना होगी. चुनाव के लिए लगने वाले कागजपत्रों को जमा करने के लिए चुनाव लड़ने के इच्छुक उम्मीदवारों ने भागदौड़ शुरू कर दी है. जिससे प्रथम दिन ही तहसील व उप विभागीय अधिकारी कार्यालयों में भारी भीड़ दिखाई दी. इस चुनाव को लेकर राजनीतिक वातावरण गर्माया है. 

बैंकों में भी भीड़

ग्रापं का चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के लिए चुनाव आयोग ने खर्च की सीमा अलग-अलग 3 श्रेणी में 25 से 50 हजार रुपये तक कर दी है. इतना ही नहीं उम्मीदवारों को चुनाव प्रक्रिया के दौरान प्रचार के लिए खर्च की गई रकम का विवरण राष्ट्रीयकृत बैंक के खातों से देना होगा. जिससे राष्ट्रीयकृत बैंकों में खाता खोलने वालों की भीड़ बढ़ गई है. इस संबंध में बैंक ऑफ बडोदा के मुख्य प्रबंधक अरुण कौशिक ने बताया कि चुनाव को देखते हुए हमारे यहां केवल 15 मिनट में ग्राहक का ऑन लाइन खाता खोलने की सुविधा उपलब्ध करा दी गई है.