Nashik Zilla Parishad
Representative Pic

नासिक: नासिक जिला परिषद (Nashik Zilla Parishad) में नियमित तबादलों (Transfers) को दो सप्ताह और आंतरिक तबादलों को 24 घंटे बीत जाने के बाद भी तबादलों का रोना जारी है। इच्छित पद और स्थान पर स्थानांतरण न मिलने के कारण कई कर्मचारी (Employee) और अधिकारी स्थानांतरित जगह पर नहीं जाना चाह रहे हैं। मई के अंतिम सप्ताह में कर्मचारियों के नियमित तबादले की प्रक्रिया शुरू हुई और बहुत से अधिकारियों और कर्मियों को नियमित स्थानांतरण दिया गया, लेकिन जिनका स्थानांतरण हुआ है, उनका कहना है कि वे वहां नहीं जाना चाहते हैं। तबादला प्रक्रिया काउंसलिंग (Counseling) के जरिए की गई है, फिर भी बहुत से लोगों का कहना है कि उनके साथ अन्याय हुआ है।

तबादलों के बाद भी संबंधित विभागों ने अभी तक कुछ कर्मचारियों को कार्यमुक्त नहीं किया है। कहा जा रहा है कि कुछ विभागों ने संबंधित कर्मचारियों को रिलीव कर दिया है और रिप्लेसमेंट के स्थान पर जिन्हें आना था, वे अब तक नहीं आए हैं। तबादलों के बाद आंतरिक तबादले भी हुए हैं। अब आंतरिक फेरबदल के बाद कई विभागों में कर्मचारियों में असंतोष स्पष्ट रूप से देखने को मिल रहा है। जिला परिषद में इन दिनों मेरे साथ अन्याय हुआ है, मेरे साथ अन्याय हुआ है, की गूंज है।

अभी तक कर्मचारियों को रिलीव नहीं किया 

एक विभाग के कर्मचारियों ने तबादले पर विभागाध्यक्ष को बधाई तक दे डाली, लेकिन 24 घंटे बाद पता चला कि उस कर्मचारी को आंतरिक तबादले की जरूरत नहीं थी। बताया जा रहा है कि जिसे उसकी इच्छा के अनुरूप तबादला मिला है, उनका कहना है कि तबादले सही हुए हैं और जिनको इच्छा के अनुरूप तबादला नहीं मिला है, उनका कहना है कि गलत तरीके से तबादले किए गए हैं। आंतरिक तबादलों के बाद सामान्य प्रशासन विभाग जैसे कई विभागों ने तुरंत कर्मचारियों की छंटनी कर दी। हालांकि कई विभागों ने अभी तक कर्मचारियों को रिलीव नहीं किया है। कई कह रहे हैं कि मैं आपको नहीं छोड़ूंगा। इससे संबंधित कर्मचारी का तबादला होने के बाद पेश होना मुश्किल हो रहा है।

कर्मचारियों के बीच खूब चर्चाएं चल रही 

लेखा एवं वित्त विभाग में तबादला किया गया है। लेखा विभाग में अजय कस्तूरे, महात्मा गांधी रोजगार गारंटी योजना विभाग में कृषि विभाग के चंद्रकांत सरोदे, कृषि विभाग में येवला पंचायत समिति के कैलास घुमरे, लेखा विभाग में दिंडोरी पंचायत समिति के प्रदीप सोमवंशी, नांदगांव पंचायत समिति के श्रीपाद जोशी को ग्रामीण विकास तंत्र विभाग, श्याम कांबले को मालेगांव पंचायत समिति से लेखा विभाग में स्थानांतरित किया गया है, लेकिन इनमें से अधिकांश लोग ऐसे हैं, जो तबादला नहीं चाहते थे। इसलिए वे कह रहे हैं कि उनके साथ अन्याय हुआ है। आंतरिक तबादले में निर्माण विभाग में प्रभारी पद पर कार्यरत सहायक लेखा अधिकारी विजय कुमार हलदे का पूर्णकालिक रूप से निर्माण विभाग में तबादला किए जाने से हर कोई हैरान बताया जा रहा है। हलदे के अचानक तबादले के कारण जिला परिषद कर्मचारियों के बीच खूब चर्चाएं चल रही हैं। बताया जा रहा है कि इस तबादले के लिए निर्माण कार्यपालन यंत्री ने खुद पत्र दिया था। कहा जा रहा है कि बहुत से लोगों का तबादला दबाव तंत्र का उपयोग कर किया गया है, जबकि बहुत से लोगों का तबादला वरिष्ठ अधिकारियों के आग्रह पर किया गया है। कुछ मिलाकर जिला परिषद में इन दिनों तबादलों को लेकर रोना रोया जा रहा है।