File Photo
File Photo

  • खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग से अपील

वर्धा. त्योहारों के मौसम के दौरान, नागरिकों से बड़ी संख्या में मिठाई और अन्य खाद्य पदार्थ जैसे खावा, मावा, मैदा, आटा, खाद्य तेल, जड़ी बूटी आदि की मांग की जाती है. खाद्य एवं औषधि प्रशासन के सहायक आयुक्त (खाद्य) जयंत वाने ने अपील की है कि हलवाई, विक्रेता व अन्य खाद्य व्यापारी सामान बेचते समय सावधानी बरतें.

दुकानदारों ने दुकान के परिसर को पर्यावरण दृष्टी एवं कीट मुक्त रखे. कच्चा खाद्य पदार्थ केवल लाइसेंसधारी, पंजीकृत व्यापारियों से ही प्राप्त किया जाना चाहिए. उनके बिलों का रखरखाव किया जाना चाहिए और ग्राहकों को खुले में खाना नहीं खरीदना चाहिए. खावा से बनी मिठाइयों का सेवन संभव हो तो 24 घंटे के अंदर करना चाहिए. मिठाई के स्वाद या गंध में कोई अंतर हो तो उसे नष्ट कर देना चाहिए. भोजन बनाने के लिए पीने योग्य पानी का उपयोग करना चाहिए. तैयार भोजन को साफ और सुरक्षित रखना चाहिए.

रोगी को भोजन को नहीं छूना चाहिए. मिठाइयाँ बनाते समय कम से कम फ़ूड ग्रेड फ़ूड कलरिंग का ही प्रयोग करना चाहिए.(100 पीपीएम से कम). मिठाई पर दर्शनी भाग में उपयोग की तारीख कन्फेक्शनरी ट्रे पर दिखाई देने वाली जगह पर रखनी चाहिए. मिठाई बनाते समय संचालकों को टोपी, मास्क, दस्ताने और साफ एप्रन पहनना चाहिए. मिठाइयों पर इस्तेमाल होने वाली सोने और चांदी की पन्नी उचित गुणवत्ता और उच्च गुणवत्ता की होनी चाहिए.

मिठाइयों को संभालते समय हाथों को बार-बार धोना चाहिए. इस दौरान मिठाइयों व अन्य खाद्य पदार्थों के सेवन से विषाक्तता जैसी कोई अप्रिय घटना न हो, इसके लिए हलवाई, वेंडरों और अन्य खाद्य व्यापारियों को इस तरह के निर्देश जारी किए गए हैं.

खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने कहा कि उपभोक्ताओं को प्रशासन के टोल फ्री नंबर 1800222365 या खाद्य एवं औषधी प्रशासन के टेलीफोन नंबर 07152-243078 पर संपर्क करना चाहिए. अगर उन्हें भोजन और मिठाई विक्रेता भोजन में छेड़छाड़ या धोखाधड़ी करते हैं तो खाद्य एवं औषधि प्रशासन दवारा सख्त कार्रवाई की जाएंगी ऐसा कहा.