यवतमाल के रिटायर्ड पुलिस अधिकारी को बुलढाणा जिले में लुटा, रिव्हॉल्वर 5 लाख नगद समेत 11 लाख रुपयों की लुट

    • सोने के सिक्के के खरीदी की लालुच पडी महंगी

    यवतमाल. यवतमाल जिला पुलिस विभाग में मोटर वाहन विभाग से रिटायर्ड हुए एक पुलिस अधिकारी को बुलढाणा जिले में आनेवाले निरोडा फाटा पर लुटने की घटना उजागर हुई है. इस वारदात में अज्ञात लुटेरों ने इस रिटायर्ड पुलिस अफसर को सोने के सिक्के बेंचने के नाम पर बुलढाणा जिले के निरोड के पास बुलाकर वहां पर उसकी लाईसेंसी रिव्हॉल्वर समेत 5 लाख रुपयों की नगद राशि मिलाकर सोने के गहने लुट लिए.इस दौरान लुटेरों ने इस रिटायर्ड अफसर की जोरदार पिटाई कर उसे घायल करते हुए आरोपी फरार हो गए. लुटे गए रिटायर्ड पुलिस अधिकारी का नाम राजेंद्र चंदुलाल जाधव 59 निवासी वडगांव यवतमाल है.

    पुलिस सुत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राजेंद्र जाधव कुछ समय पुर्व ही पुलिस विभाग से रिटायर्ड हुए है.उन्हे कुछ दिनों पुर्व मोबाईल पर फोन कर एक व्यक्ती ने खुदाई के दौरान सोने से भरा कलश मिलने की जानकारी देकर इन सोने के सिक्कों को कम दामों पर बेंचने की जानकारी दी. जिससे यह सोने के सिक्के खरीदने के लिए राजेंद्र जाधव इस व्यक्ती के संपर्क में थे.

    जाधव का भरोसा जितने के लिए फोन करनेवाले व्यक्ती ने उन्हे मिलकर सोने के सिक्के भी दिखाए थे. जिससे यह सोने के सिक्के खरीदी करने के लालुच में आए जाधव ने उससे बातचित कर आर्थिक व्यवहार की बात तय की थी, जिसके बाद दोनों के बीच हुई चर्चा में राजेंद्र जाधव को सोने के सिक्के हासिल करने के लिए बुलढाणा जिले के खामगांव तहसील में आनेवाले निरोडा फाटा के पास बुलाया गया था.

    जिसके बाद 25 मार्च को यह रिटायर्ड पुलिस अफसर अपने साथ 5 लाख रुपए और सोने के गहने लेकर वहां अपने वाहन और चालक के साथ पहूंचे, तभी सोने के सिक्के बेंचने के नाम पर ठगी और लुटमार करनेवाले इस गिरोह के वह निरोड फाटा के पास हत्थे चढ गए, उनकी दबिश देकर राह तक रहे लगभग 12 लोगों के गिरोह ने रिटायर्ड पुलिस अधिकारी राजेंद्र जाधव को देखते ही उनके वाहन का घेराव कर लिया.

    जिसके बाद आरोपीयों ने चालक और जाधव को वाहन से बाहर निकालकर उनसे मारपीट करते हुए उनके पास मौजुद 5 लाख रुपयों की नगद राशि, सोने की 2 चैन, 2 लाख 31 हजार रुपयों की सोने की अंगुठीयां, सोने का लॉकेट, मोबाईल और घडी समेत उनकी रिवॉल्वर छिनकर 11 लाख रुपयों का माल लुट लिया और उन्हे मारपीट कर घायल करते हुए अज्ञात आरोपी वहां से फरार हो गए.

    खुद को लुटे जाने के बाद राजेंद्र जाधव ने तात्काल वहां से निकट पडनेवाले हिवरखेड पुलिस थाने पहूंचकर पुलिस को वारदात की जानकारी दी.जिसके बाद पुलिस दस्ते ने मौके पर पहूंचकर घायल जाधव और उनके चालक को अस्पताल पहूंचाया, इसके बाद हिवरखेड पुलिस ने जाधव से घटनाक्रम की जानकारी लेकर शिकायत दर्ज की.

    जिसके आधार पर पुलिस ने इस मामलें में हिवरखेड पुलिस थाने में अनिल छन्नु भोसले, अभिसेन भोसल, दिपक भीमदास चव्हाण, दिनकर चलबाबु भोसले और उसके 8 साथीदारों के खिलाफ धारा 394,395,120 ब, के तहत अपराध दर्ज कर लिया है, इस मामले की जांच हिवरखेड थाने के एपीआय बी.आर.इंगले कर रहे है.