चक्रवाती तूफान ‘जवाद’ के मद्देनजर NDRF की उड़ीसा-पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश में 46 टीमें हुई तैनात, 18 को स्टैंड बाय में रखा गया

    नई दिल्ली: देश में कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन (Omicron) का खतरा बना हुआ है। इन सब के बीच देश के कई राज्यों में चक्रवाती तूफान जवाद (Cyclone Jawad) का खतरा बना हुआ है। कहा जा रहा है कि यह तूफान शनिवार सुबह ओडिशा के तटों से टकरा सकता है। जवाद को लेकर एनडीआरएफ भी पूरी तरह से अलर्ट मोड़ पर है। एनडीआरएफ (NDRF) ने उड़ीसा (Odisha), पश्चिम बंगाल (West Bengal) और आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) में 46 टीमें को तैनात किया है। साथ ही 18 को स्टैंड बाय में रखा है।

    ज्ञात हो कि NDRF के डीजी अतुल करवाल ने कहा कि एनडीआरएफ की कुल 46 टीमों को उड़ीसा, पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश भेजा गया है। किसी भी दल को एयरलिफ्ट करने की स्थिति उत्पन्न होने पर IDS अलर्ट पर है। 18 अन्य टीमें स्टैंडबाय पर हैं।

    उल्लेखनीय है कि मौसम विभाग का कहना है कि इस तूफान के तट से टकराने के बाद हवाओं की 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने की आशंका है। यही कारण है कि ओडिशा के चार जिलों गजपति, गंजम, पुरी और जगतसिंहपुर में रेड अलर्ट जारी किया है। साथ ही निचले इलाकों में रह रहे लोगों को वहां से हटाया जा रहा है।