CA, CS, CWA को स्नातकोत्तर मान्यता दशकों की प्रतीक्षा का नतीजा

    विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) University Grants Commission (UGC) ने दशकों से प्रतीक्षित बड़ा निर्णय लेते हुए सीए (CA), सीएस(CS), आईसीडब्ल्यूए (ICWA) की डिग्रियों को पोस्ट ग्रेज्युएट डिग्री के समकक्ष मान्यता प्रदान कर दी हैं. इससे लाभ यह होगा कि विद्यार्थियों को नेट परीक्षा केलिए अलग से स्नातकोत्तर डिग्री (Post Graduation Degrees) लेने की आवश्यकता नहीं रह जाएगी. ये विद्यार्थी कापीप्रद व व्यवस्थापन शाखा में पीएचडी कर सकेंगे.

    यूजीसी को इंस्टीट्यूट आफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स आफ इंडिया (आईसीएआई), इंस्टीट्यूट आफ कंपनी सेक्रेटरी आफ इंडिया (आईसीएसआई) और इंस्टीट्यूट आफ कॉस्ट अकाउंटेंट्स आफ इंडिया की ओर से अनुरोध प्राप्त हुए थे कि उनकी सी, सीएस व आईसी डब्ल्यूए की डिग्री को स्नातकोत्तर की मान्यता दी जाए. यूजीसी के अनुकूल फैसले से वैश्विक स्तर पर भारत के सीए को अधिक गतिशीलता उपलब्ध होगी. ये विद्यार्थी नेट परीक्षा के पात्र रहेंगे और सहायक प्राध्यापक बन सकेंगे.

    यह भी देखना होगा कि बोर्ड काउंसिल आफ इंडिया कंपनी सेक्रेटरी (सीएस) को एलएलएम के समकक्ष मान्यता देती है या नहीं. यदि ऐसी मान्यता मिली तो कंपनी सेक्रेटरी सीधे डाक्टरेट (पीएचडी) कर सकता है. आईसीएसआई के पूर्व चेयरमैन सीएस आशीष गर्ग ने यूजीसी चेयरमैन प्रो. डी. पी सिंह से भेंट कर मांग की थी सीए, सीएस व आईसी डब्ल्यूए को स्नातकोत्तर डिग्री की मान्यता दी जाए. इसके बाद एक समिति बनाई गई. समिति ने सभी पहलुओं को ध्यान से रखकर अनुकूल निर्णय दिया.