Eknath Shinde Devendra Fadnavis and Ajit Pawar Winter session of Maharashtra Assembly
देवेन्द्र फड़णवीस, एकनाथ शिंदे और अजित पवार

Loading

नागपुर: महाराष्ट्र विधानमंडल का शीतकालीन (Maharashtra Assembly Winter session 2023 ) सत्र 7 दिसंबर (गुरुवार) से शुरू हो रहा है। इससे पहले विपक्षी दलों ने सरकार द्वारा आयोजित पारंपरिक चाय पार्टी का बहिष्कार किया और प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार की आलोचना की। जिसके बाद सरकार की और से प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई और विपक्ष पर पलटवार किया गया। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे  (Eknath Shinde) ने विपक्ष के कठपुतली वाले बयान की निंदा करते हुए कहा कि जिन्हें यहां मैडम की इजाजत के बिना नाक खुजाने की भी इजाजत नहीं है, उन्हें हम पर आरोप नहीं लगाना चाहिए। 

शिंदे ने विपक्ष पर बोला हमला 

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि हमारी आलोचना की जाती है कि हमने अपना आत्मसम्मान खो दिया है। कहा जाता है कि वे दिल्ली जाते हैं, वे दिल्ली की कठपुतली हैं। लेकिन जिन्हें यहां मैडम की इजाजत के बिना नाक खुजाने की भी इजाजत नहीं है, उन्हें हम पर आरोप नहीं लगाना चाहिए। उन्हें स्वाभिमान की भाषा नहीं बोलनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि जब से एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बने हैं तब से वे दिल्ली की यात्रा पर लगातार जाते रहे हैं। उनके साथ ही अजित पवार भी दिल्ली के दौरे पर जाते रहते है। इसके चलते विपक्ष शिंदे और पवार दोनों की आलोचना करता रहता है। 

आपके अहंकार के कारण राज्य को हुआ नुकसान 

एकनाथ शिंदे ने आगे कहा कि हम दिल्ली जाते हैं और फंड लेकर आते हैं। केंद्र सरकार ने हमें जो पैसा दिया वह बिना मांगे नहीं मिलता। हर किसी को प्रयास करना होगा और इसे आगे बढ़ाना होगा। विपक्ष पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि घमंडी की तरह व्यवहार मत करो। आपके अहंकार के कारण आपको केंद्र द्वारा भुगतान नहीं किया गया। वहीं, आपने तो इसके लिए पूछा भी नहीं। तुम्हारे अहंकार के कारण राज्य की नुकसान हुआ है। आपने राज्य में कई विकास परियोजनाओं को बंद और निलंबित कर दिया है। फिर जब हमारी सरकार आई तो हमने इसे शुरू किया। आपने प्रदेश को पीछे ले जाने का काम किया। अब हम प्रदेश को आगे ले जा रहे हैं।

देवेंद्र फडणवीस ने क्या कहा 

इससे पहले, प्रेस कॉन्फ्रेंस में देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ”विपक्ष ने चाय समारोह का बहिष्कार किया। यह कार्यक्रम चर्चा के लिए है। लेकिन शायद विपक्षी दल के स्वभाव को देखते हुए अगली बार हमें उनके लिए पान-सुपारी रखनी पड़ेगी। इसलिए मुझे संभावना दिख रही है कि वे आ सकते हैं।’

विपक्ष के नेता ने क्या कहा था 

विपक्ष की और से प्रेस कॉन्फ्रेंस में विधानसभा में विपक्ष के नेता विजय वडेट्टीवार ने कहा, ‘महाराष्ट्र में कानून व्यवस्था की समस्या पैदा हो गई है। किसान परेशान है। सरकार इसे नजरअंदाज कर रही है और इस पर चर्चा करने के लिए भी तैयार नहीं है। इसलिए हमें सरकार की चाय पार्टी में जाना सही नहीं लगता, इसलिए हमने इस कार्यक्रम का बहिष्कार किया है।’