Auction of women's body parts used to be discussed in clubhouse APP chat: Mumbai Police
File Photo:ANI

    मुंबई: मुंबई अपराध शाखा (Mumbai Crime Branch) की साइबर पुलिस (|Mumbai Cyber Cell Police) ने बुल्ली बाई ऐप (Bulli Bai APP) मामले में बृहस्पतिवार को ओडिशा (Odisha) से एक युवक को गिरफ्तार (Arrest) किया। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। इस ऐप पर मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें ‘नीलामी’ के लिए डालकर उन्हें निशाना बनाया जाता था।

    अधिकारी ने बताया कि आरोपी की पहचान 28 वर्षीय नीरज सिंह के रूप में की गई है, जो एमबीए डिग्री धारी है। पुलिस के अनुसार नीरज ने मुख्य आरोपी के साथ मिलकर ऐप के निर्माण की योजना बनाई थी। अधिकारी ने कहा, ‘नीरज की भूमिका इस मामले में पहले गिरफ्तार किये गये आरोपियों से पूछताछ में सामने आयी। पूछताछ के बाद साइबर थाने की एक टीम उसकी गिरफ्तारी के लिए ओडिशा भेजी गयी थी।”

    उन्होंने बताया कि नीरज को मुंबई लाया जा रहा है, जहां उसे एक अदालत में पेश किया जाएगा। नीरज की गिरफ्तारी के साथ मुंबई पुलिस बुल्ली बाई ऐप मामले में अब तक कुल चार आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। उससे पहले, श्वेता सिंह (18) और मयंक रावल (21) को उत्तराखंड से, जबकि इंजीनियरिंग छात्र विशाल कुमार झा (21) को बेंगलुरु से गिरफ्तार किया गया था।

    बुल्ली बाई ऐप मामले के मुख्य साजिशकर्ताओं में कथित तौर पर शामिल नीरज बिश्नोई को दिल्ली पुलिस ने असम से गिरफ्तार किया था। ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म ‘गिटहब’ पर मौजूद ‘बुल्ली बाई’ ऐप पर सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरों से छेड़छाड़ कर उन्हें ‘नीलामी’ के लिए डालने की शिकायतें सामने आने के बाद मुंबई पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी।

    हालांकि, ऐप पर कोई वास्तविक ‘नीलामी’ या ‘बिक्री’ नहीं की गई, लेकिन माना जा रहा है कि इसके निर्माण का मुख्य उद्देश्य लक्षित महिलाओं को डराना और अपमानित करना था।