Bhiwandi Municipal Corporation

    भिवंडी: भिवंडी महानगरपालिका कमिश्नर सुधाकर देशमुख (Bhiwandi Municipal Commissioner Sudhakar Deshmukh) का भिवंडी महानगरपालिका (Bhiwandi Municipal Corporation) से ट्रांसफर (Transfer) होने की अफवाह (Rumors) शहर में जोरों से फैली है। ट्रांसफर की पुष्टि किसी भी सूत्र से अभी तक नहीं हुई है और न ही महानगरपालिका प्रशासन को ट्रांसफर का आर्डर ही शासन से प्राप्त हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार, भिवंडी महानगरपालिका कमिश्नर सुधाकर देशमुख को भिवंडी आए करीब 1 वर्ष पूर्ण होने को है। स्थानीय नागरिकों की माने तो कठिन आर्थिक परिस्थितियों के उपरांत भी 1 वर्षों के अल्प कार्यकाल में कमिश्नर सुधाकर देशमुख ने शहर के विकास कार्यों को एक नई दिशा देने का प्रयास किया है। कोरोना संकटकाल के दौरान करीब 2 वर्ष तक बंद रहे विकास कार्यों को तीव्र गति से शुरू करने का श्रेय कमिश्नर देशमुख को जाता है। 

    महानगरपालिका कमिश्नर की कुशल कार्यप्रणाली और दीर्घ अनुभव का फायदा भिवंडी में विकास कार्यों सहित मूलभूत समस्याओं के समाधान में दिखाई पड़ने लगा है। शहर में पानी, स्वच्छता, कचरे का नियोजन और ट्रैफिक, सड़क निर्माण जैसी मूलभूत समस्या का समाधान करने के लिए कमिश्नर देशमुख बेहद गंभीरता से जुटे हैं। शहर में वर्षों से प्रलंबित अनगिनत विकास कार्य तेजी से शुरू है। गत् 3-4 दिन से शासन द्वारा कुछ स्वार्थी राजनीतिक नेताओं को खुश करने के लिए महानगरपालिका कमिश्नर सुधाकर देशमुख का ट्रांसफर किए जाने की अफवाह जोर से फैली जो आज तक चल रही है। 

    शिवसेना ने भी की है ट्रांसफर रोके जाने की गुहार 

    नागरिकों को आशा है कि शासन ऐसे कर्तव्यदक्ष महानगरपालिका कमिश्नर को अपना कार्यकाल पूरा करने का मौका जरूर देगा। ट्रांसफर मुद्दे को लेकर शिवसेना के कई नेता भी भिवंडी शहर के सर्वांगीण विकास के लिए नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे से मिलकर कमिश्नर देशमुख का ट्रांसफर रोके जाने की गुहार कर चुके हैं।

    ट्रांसफर होना एक रूटीन काम: कमिश्नर सुधाकर देशमुख 

    उक्त संदर्भ में बात करने पर भिवंडी महानगरपालिका कमिश्नर सुधाकर देशमुख ने कहा कि शासन को ट्रांसफर करने का अधिकार है। महानगरपालिका से ट्रांसफर होना एक रूटीन काम है। शासन जहां भेजेगा वहां जाकर कार्य करेंगे।