Water
File Photo

    नाशिक:  पिछले साल नाशिक (Nashik) में झमाझम बारिश हुई थी। इसके चलते नाशिक शहरवासियों को जलापूर्ति (Water Supply) करने वाले गंगापुर बांध (Gangapur Dam), मुकणे बांध (Mukne Dam) और दारणा बांध (Darna Dam) में मार्च अंत तक पर्याप्त पानी का भंडारण है। नाशिक महानगरपालिका के लिए आरक्षित किए गए पानी में से अब ढाई टीएमसी पानी शेष है, जिसका उपयोग 31 जुलाई तक हो सकता। कुल मिलाकर इस साल नाशिक शहरवासियों को जल कटौती का सामना नहीं (No Water Cut) करना होगा। 

    गौरतलब है कि नाशिक शहरवासियों को प्रमुख रूप से गंगापुर बांध समूह, मुकणे बांध और कुछ मात्रा में दारणा बांध से जलापूर्ति की जाती है। हर साल बारिश सत्र छोड़कर 15 अक्टूबर से 31 जुलाई के बीच नाशिक शहरवासियों के लिए पीने के पानी का आरक्षण इन बांधों से किया जाता है। पिछले साल नाशिक शहरवासियों की पीने के पानी की जरूरत को ध्यान में रखते हुए मनपा ने गंगापुर बांध समूह से 4 हजार मिलियन क्यूबिक फीट, मुकणे बांध से 1500 मिलियन क्यूबिक फीट तो दारणा बांध से 100 मिलियन क्यूबिक फीट पानी आरक्षण करने की मांग सिंचाई विभाग से की थी। 

    31 जुलाई तक पर्याप्त है पानी

    पालकमंत्री छगन भुजबल की अध्यक्षता में जिलाधिकारी कार्यालय में हुई पानी आरक्षण बैठक में महानगरपालिका द्वारा की गई मांग को मंजूर किया गया, परंतु सिंचाई विभाग ने इस पानी वितरण पर अभी भी मुहर नहीं लगाई है। पालकमंत्री छगन भुजबल द्वारा दी गई सूचना के तहत महानगरपालिका ने पानी का उपयोग करना शुरू कर दिया है। उपलब्ध आरक्षण में से 2473.34 मिलियन क्यूबिक फीट पानी शेष है, जो 31 जुलाई तक पर्याप्त है।

    2473.34 मिलियन क्यूबिक फीट पानी शेष 

    पानी आरक्षण मंजूर होने के बाद पिछले 164 दिनों में महानगरपालिका ने नाशिक शहरवासियों के लिए गंगापुर बांध समूह से 2382.77 मिलियन क्यूबिक फीट और मुकणे बांध से 743.89 मिलियन क्यूबिक फीट, ऐसे कुल 3126.66 मिलियन क्यूबिक फीट पानी का उपयोग किया है। आज की स्थिति में गंगापुर बांध समूह में महानगरपालिका का 1617.23 मिलियन क्यूबिक फीट, दारणा में 100 मिलियन क्यूबिक फीट तो मुकणे बांध में 756.11 मिलियन क्यूबिक फीट, ऐसे कुल 2473.34 मिलियन क्यूबिक फीट पानी शेष है।